Saturday, October 27, 2018

Benefits of Drinking Warm Water ---& बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगें

Highlights of benefits of drinking warm water explained by Sri Harnoor Channi-Tiwary i

Water is most beneficial when it is consumed warmWater plays an essential role in our well-beingWater helps in glowing skin , good digestion and even avoiding migraines

The world is made up of two types of people, simplistically speaking. Those who like their water warm and those who like to throw in plenty of ice cubes. Water plays an essential role in our well-being, from skin care to good digestion and even avoiding migraines, there is a lot that merely the consumption of water can fix. However, according to science, both ancient and modern, the temperature of water when it is consumed is critical as well.

From Ayurveda to ancient Chinese medicine, the one thing everyone seems to agree on is that water is most beneficial when it is consumed warm. With that consensus, there are other aspects that need to be looked into, like when, how much and why. Let's take them up one by one:

Timing is key

I recently spent a weekend at an Ayurvedic Spa Resort where the meals were prepared and served following the (many) rules of Ayurveda. The most noticeable difference between dining in the restaurant there and dining anywhere else, was that the server always inquired whether you preferred warm waterwith your meal or regular water. This is a basic principle of Ayurveda, which recommends the consumption of a cup of warm water alongside your meals.

Meals in China or Japan are always accompanied by warm tea. This isn't the masala tea that we may be used to. Instead, it is hot water with just a few leaves of green tea or some other leaf tea. My in-laws went on a month-long trip where they traveled across China, mostly by train. The one thing that they loved was that everyone carried an empty thermos and the trains had taps where one could refill hot drinking water from. Throw in a few tea leaves and sip it over time.

For centuries, people in Japan have been following the ritual of 'Water Cure'. This entails drinking 4 glasses of water every morning right after you wake up, even before you brush your teeth. What is important is that this water must not be cold.

How much is advised?

The amount of water one should consume depends on various factors like age, activity levels, weather, diet, etc. However, there are some broad guidelines that may be followed. If consumed along with your meals, approximately one cup is good enough. Having said that, if the meal includes dishes like soup or yoghurt, this amount may be reduced. The ideal amount to consume is important to understand as too much water with your meals may also satiate your hunger before you have eaten enough, and thus rob you of the opportunity to consume nutrients.

As mentioned before, if had on an empty stomach in the morning, four glasses are what the Japanese Water Therapy recommends. If it sounds like a lot, start with one glass and increase it to four, over time.

Health benefits of warm water

1. Prevents constipation

Intestinal movement is important to avoid bloating, abdominal pain and discomfort. Dr. Rupali Datta suggests that having warm water is great for internal 'cleansing'. It regulates bowel movement and prevents constipation.

2. Great for glowing skin

Drinking warm water raises your body's temperature and helps release toxins. This detoxification, is great for glowing skin and unclogged pores.

3. Stimulates hunger

Anju Sood, a Bengaluru based nutritionist elaborates, "When you have warm water, the body has to work harder to bring down its temperature. Thus, the metabolic system is kicked off." This further triggers the mind to demand food and stimulates hunger.

4. Aids digestion

Dr. Sood says that drinking warm water early in the morning helps boost liver and kidney functions. "If you ask a nutritionist what is the primary organ of the body, she will inevitably say it is the liver as all metabolism happens via the liver. Warm water plays a vital role in breaking down food substances and thus aids digestion."

5. Helps clear out congestion

Though avoiding cold water when you have a sore throat may largely be an Indian old wife's tale (many parts of the world do not even recognize this concept), it is indisputable that warm water helps clear out congestion and soothes an aching throat. The water helps prevent phlegm accumulation too.

6. Pain relief from menstrual cramps

Menstrual cramps can be quite painful for some. A warm water bottle pressed against your belly may be your favourite way to deal with period pain, but did you know that drinking warm water can help too? Studies suggest that drinking warm water increases blood circulation, which works as a pain reliving mechanism.

7. Prevents premature ageing

As mentioned above, warm water consumption removes toxins from the body, through sweat, bowel movement and unclogged pores. The presence of toxins in the body leads to premature ageing,

Moisture absorption

According to Ayurveda, all kinds of water are not absorbed at the same rate by the body. Regular water takes around 6 hours to get absorbed, whereas water which has been boiled, takes only half that time. What is interesting to note, is that Ayurveda does not insist that you have the boiled water hot. It says that boiling water for ten minutes enriches it with energy and stimulates agni which in turn helps digestion. The very properties of water are said to alter after boiling. It is said to be beneficial to sip on this water all through the day, reheating it is not required as the nature of the water is now warm. Water kept overnight loses these properties though. Boil fresh water every morning for best results.

About the Author:

Harnoor Channi-Tiwary is an MBA who wandered into the world of writing and never left. For more than a dozen years, she has been writing about food and travel. 


बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगें।
 बाजरे की रोटी का स्वाद जितना अच्छा है, उससे अधिक उसमें गुण भी हैं।
बाजरे की रोटी खाने वाले को हड्डियों में कैल्शियम की कमी से पैदा होने वाला रोग *आस्टियोपोरोसिस* और खून की कमी यानी *एनीमिया* नहीं होता।

- बाजरा *लीवर* से संबंधित रोगों को भी कम करता है।

- गेहूं और चावल के मुकाबले बाजरे में *ऊर्जा* कई गुना है।
 - बाजरे में भरपूर कैल्शियम होता है जो हड्डियों के लिए रामबाण औषधि है। उधर *आयरन* भी बाजरे में इतना अधिक होता है कि खून की कमी से होने वाले रोग नहीं हो सकते।
- खासतौर पर गर्भवती महिलाओं ने कैल्शियम की गोलियां खाने के स्थान पर रोज बाजरे की दो रोटी खाना चाहिए।
- वरिष्ठ चिकित्साधिकारी मेजर डा. बी.पी. सिंह के सेना में सिक्किम में तैनाती के दौरान जब गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम और आयरन की जगह बाजरे की रोटी और खिचड़ी दी जाती थी। इससे उनके बच्चों को जन्म से लेकर पांच साल की उम्र तक *कैल्शियम और आयरन* की कमी से होने वाले रोग नहीं होते थे।
-इतना ही नहीं बाजरे का सेवन करने वाली महिलाओं में प्रसव में *असामान्य पीड़ा* के मामले भी न के बराबर पाए गए।
 - डाक्टर तो बाजरे के गुणों से इतने प्रभावित है कि इसे अनाजों में *वज्र* की उपाधि देने में जुट गए हैं।
- बाजरे का किसी भी रूप में सेवन लाभकारी है।
*लीवर की सुरक्षा* के लिए भी बाजरा खाना लाभकारी है।
- *उच्च रक्तचाप, हृदय की कमजोरी, अस्थमा से ग्रस्त लोगों तथा दूध पिलाने वाली माताओं में दूध की कमी* के लिये यह टॉनिक का कार्य करता है।
- यदि बाजरे का नियमित रूप से सेवन किया जाय तो यह *कुपोषण, क्षरण सम्बन्धी रोग और असमय वृद्धहोने* की प्रक्रियाओं को दूर करता
- रागी की खपत से शरीर प्राकृतिक रूप से शान्त होता है। *यह एंग्जायटी, डिप्रेशन और नींद* न आने की बीमारियों में फायदेमन्द होता है। यह *माइग्रेन* के लिये भी लाभदायक है।
 - इसमें लेसिथिन और मिथियोनिन नामक अमीनो अम्ल होते हैं जो अतिरिक्त वसा को हटा कर *कोलेस्ट्रॉल* की मात्रा को कम करते हैं।
- बाजरे में उपस्थित रसायन पाचन की प्रक्रिया को धीमा करते हैं।
*डायबिटीज़ में यह रक्त में शक्कर* की मात्रा को नियन्त्रित करने में सहायक होता है।
यह मैसेज अगर आपको अच्छा लगे या समझ में आये की यह किसी के लिया रामबाण की तरह काम आएगा तो आप सेनिवेदन है कि इसमैसेज को अपने *परिचित /मित्र/ या आपके व्हाट्स एप्प ग्रुप फ्रेंड्स* तक भेज दे ।आपका यह कदम *स्वस्थ भारत के निर्माण* मैं योगदान के रूप में होगा दुआ मैं बड़ी ताकत होती है।
*स्वस्थ रहो मस्त रहो व्यस्त रहो और सदा खुश रहो*

Thursday, October 25, 2018

सीताफल का लाभ ( Benefits of Custard Apple)

*सीताफल जहॉ भी दिख जाये खाना जरूर कारण हम आपको बता रहे हैं*
  सीताफल एक ऐसा फल है जो सर्दी के मौसम में बाजारों में मिलता है । सीताफल को इंग्लिश में कस्टर्ड एप्पल कहते है और शरीफा नाम से भी ये फल जाना जाता है । सीताफल ये अनगिनत औषधियों में शामिल है ये फल पकी हुई अवस्था में बहार से सख्त और अंदर से नरम और बहुत ही मीठा होता है । इसका अंदर का क्रीम सफ़ेद रंग का और मलाईदार होता है । इसके बीज काले रंग के होते है । मार्किट में आजकल सीताफल की बासुंदी शेक और आइसक्रीम भी मिलते है । यह हमारे सेहत के लिए बहुत ही अच्छा होता है । इसमें विटामिन होता है इसके अलावा इसमें नियासिन विटामिन ए राइबोफ्लेविन थियामिन ये तत्व होते है इसके इस्तेमाल से हमें आयरन कैल्शियम मॅग्नीज़ मैग्नेशियम पोटैशियम और फोस्फरस मिलते है । खास बात यह है कि सीता फल में आयरन अधिक मात्रा में होता है । इसके अन्दर मौजूद पोटैशियम और मैग्नेशियम ह्रदय के लिए बहोत ही अच्छा होता है मैग्नेशियम शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता इसके फाइबर की प्रचुर मात्रा से ब्लड प्रेशर अच्छा रहता है । इससे कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है । इसमें विटामिन और आयरन खून की कमी को दूर करके हीमोग्लोबिन बढ़ता है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर एक* :-
 अगर आपको कब्ज की समस्या हो तो सीता फल से ये दूर हो सकती है । सीता फल में पर्याप्त मात्रा में कॉपर तथा फायबर होते होते हैं जो मल को नरम करके कब्ज की समस्या को मिटा सकते है । इसके उपयोग से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर दो :-*
   गर्भवती महिला के लिए सीता फल खाना लाभदायक होता है इससे कमजोरी दूर होती है, उल्टी व जी घबराना ठीक होता है । सुबह की थकान में आराम मिलता है, शिशु के जन्म के बाद सीताफल खाने से ब्रेस्ट दूध में वृद्धि होती है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर तीन :-*
    यदि आप कमजोर हो या आपको वजन बढ़ाना हो तो सीता फल का भरपूर उपयोग करना चाहिए। इसमें प्राकृतिक शक्कर अच्छी मात्रा में होती है। जो बिना किसी नुकसान के वजन बढ़ाकर व्यक्तित्व आकर्षक दे सकती है । इसके नियमित सेवन से पिचके हुए गाल और कूल्हे पुष्ट होकर सही आकार में आ जाते हैं और व्यक्तित्व में निखार आता है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर चार :-*
     सीता फल के पेड़ की छाल में पाए जाने वाले टैनिन के कारण इससे दांतों और मसूड़ों को लाभ मिलता है । सीता फल दांत और मसूड़ों के लिए फायदेमंद होता है । इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम दांत मजबूत बनाता है।। इसकी छाल को बारीक पीस कर मंजन करने से मसूड़ों और दांत के दर्द में लाभ होता है । यह मुंह की बदबू भी मिटाता है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर पाँच :-*
    सीता फल में पाए जाने वाले विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘सी’, तथा राइबोफ्लेविन के कारण यह आँखों के लिए फायदेमंद होता है। यह नेत्र शक्ति को बढ़ाता है तथा आँखों के रोगों से भी बचाव करता है । जिन लोगों का काम ज्यादा लैपटोप प्रयोग वाला होता है उनके लिये इस फल का नियमित सेवन करना बहुत ही अच्छा लाभकारी रहता है ।

*सीताफल का लाभ नम्बर छः :-*
     यह मानसिक शांति देता है तथा डिप्रेशन तनाव आदि को दूर करता है । कच्चे सीताफल के क्रीम खाने से दस्त व पेचिश में आराम आता है। कच्चे क्रीम को सूखा कर भी रख सकते है। जरुरत पड़ने पर इसे भिगो कर खाने पर यह दस्त मिटाने में उपयोगी होता है ।
सीताफल खाने से मिलने वाले स्वास्थय लाभों की जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है



____________________________________________


*23 अक्टूबर 2018 मंगलवार से हेमन्त ऋतु प्रारंभ।*

                  🌷 *हेमंत ऋतु* 🌷
👉🏻 *पथ्य आहार :- वातनाशक, मधुर, खट्टा, कड़वा, तीखा, घर की बनी मिठाई, दूध, ताजी दही, मट्ठा, मलाई, रबड़ी, नये चावल, उड़द के बड़े पकोड़े, गाजर, टमाटर, बीट, काला चना, खजूर, सूखा  मेवा, मक्खन, घी, दूध से बनी खीर, गेहूँ के आटे से बने पदार्थ, उड़द दाल, गरम जल, ऋतुनुसार हरि सब्जियाँ जैसे कि पालक, मेथी, सरसों, मकाई का आटा एवं रसयुक्त पदार्थों का सेवन करें ।*

👉🏻 *पथ्य विहार :- वातनाशक तेल से मालिश करें ।आँवला, तिल के उबटन से स्नान, व्यायाम तथा सुबह की सूर्यकिरणों का सेवन करें ।*
👉🏻 *अपथ्य आहार :- सूखे चने, सूखे मटर, मुरमुरे जैसे वातवर्धक और रुखे पदार्थ तथा ठंडे पेय-पदार्थ का सेवन न करें ।*
👉🏻 *अपथ्य विहार :- ठंडी हवा का सेवन ।*

               🌷 *स्वास्थ्यप्रद नुस्खे* 🌷
1⃣ *सोंठ, गुड़ और घी को मिक्स करके गोलियाँ बनायें और रोज सुबह दो गोलियाँ खायें ।*
2⃣ *सुबह 5 से 10 ग्राम काले तिल व गुड़ का खाली पेट सेवन करें ।*
3⃣ *रात को एक मुट्ठी काले चने व दो खजूर पानी में भिगोकर रखें और सुबह चबा-चबाकर खायें ।*


     🌷 *हेमन्त और शिशिर की ऋतुचर्या* 🌷

*शीतकाल आदानकाल और विसर्गकाल दोनों का सन्धिकाल होने से इनके गुणों का लाभ लिया जा सकता है क्योंकि विसर्गकाल की पोषक शक्ति हेमन्त ऋतु हमारा साथ देती है। साथ ही शिशिर ऋतु में आदानकाल शुरु होता जाता है लेकिन सूर्य की किरणें एकदम से इतनी प्रखर भी नहीं होती कि रस सुखाकर हमारा शोषण कर सकें। अपितु आदानकाल का प्रारम्भ होने से सूर्य की हल्की और प्रारम्भिक किरणें सुहावनी लगती हैं।*

*शीतकाल में मनुष्य को प्राकृतिक रूप से ही उत्तम बल प्राप्त होता है। प्राकृतिक रूप से बलवान बने मनुष्यों की जठराग्नि ठंडी के कारण शरीर के छिद्रों के संकुचित हो जाने से जठर में  सुरक्षित रहती है जिसके फलस्वरूप अधिक प्रबल हो जाती है। यह प्रबल हुई जठराग्नि ठंड के कारण उत्पन्न वायु से और अधिक भड़क उठती है। इस भभकती अग्नि को यदि आहाररूपी ईंधन कम पड़े तो वह शरीर की धातुओं को जला देती है। अतः शीत ऋतु में खारे, खट्टे मीठे पदार्थ खाने-पीने चाहिए। इस ऋतु में शरीर को बलवान बनाने के लिए पौष्टिक, शक्तिवर्धक और गुणकारी व्यंजनों का सेवन करना चाहिए।*

 *इस ऋतु में घी, तेल, गेहूँ, उड़द, गन्ना, दूध, सोंठ, पीपर, आँवले, वगैरह में से बने स्वादिष्ट एवं पौष्टिक व्यंजनों का सेवन करना चाहिए। यदि इस ऋतु में जठराग्नि के अनुसार आहार न लिया जाये तो वायु के प्रकोपजन्य रोगों के होने की संभावना रहती है। जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी न हो उन्हें रात्रि को भिगोये हुए देशी चने सुबह में नाश्ते के रूप में खूब चबा-चबाकर खाना चाहिए। जो शारीरिक परिश्रम अधिक करते हैं उन्हें केले, आँवले का मुरब्बा, तिल, गुड़, नारियल, खजूर आदि का सेवन करना अत्यधिक लाभदायक है।*

 *अधिक जहरीली (अंग्रेजी) दवाओं के सेवन से जिनका शरीर दुर्बल हो गया हो उनके लिए भी विभिन्न औषधि प्रयोग जैसे कि अभयामल की रसायन, वर्धमान पिप्पली प्रयोग, भल्लातक रसायन, शिलाजित रसायन, त्रिफला रसायन, चित्रक रसायन, लहसुन के प्रयोग वैद्य से पूछ कर किये जा सकते हैं।*

*जिन्हें कब्जियत की तकलीफ हो उन्हें सुबह खाली पेट हरड़े एवं गुड़ अथवा यष्टिमधु एवं त्रिफला का सेवन करना चाहिए। यदि शरीर में पित्त हो तो पहले एक टुकी चूर्ण एवं मिश्री लेकर उसे निगद लें । सुदर्शन चूर्ण अथवा गोली थोड़े दिन खायें।*

*विहारः आहार के साथ विहार एवं रहन-सहन में भी सावधानी रखना आवश्यक है। इस ऋतु में शरीर को बलवान बनाने के लिए तेल की मालिश करनी चाहिए। चने के आटे, लोध्र अथवा आँवले के उबटन का प्रयोग लाभकारी है। कसरत करना अर्थात् दंड-बैठक लगाना, कुश्ती करना, दौड़ना, तैरना आदि एवं प्राणायाम और योगासनों का अभ्यास करना चाहिए। सूर्य नमस्कार, सूर्यस्नान एवं धूप का सेवन इस ऋतु में लाभदायक है। शरीर पर अगर का लेप करें। सामान्य गर्म पानी से स्नान करें किन्तु सिर पर गर्म पानी न डालें। कितनी भी ठंडी क्यों न हो सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लेना चाहिए। रात्रि में सोने से हमारे शरीर में जो अत्यधिक गर्मी उत्पन्न होती है वह स्नान करने से बाहर निकल जाती है जिससे शरीर में स्फूर्ति का संचार होता है।

 *सुबह देर तक सोने से यही हानि होती है कि शरीर की बढ़ी हुई गर्मी सिर, आँखों, पेट, पित्ताशय, मूत्राशय, मलाशय, शुक्राशय आदि अंगों पर अपना खराब असर करती है जिससे अलग-अलग प्रकार के रोग उत्पन्न होते हैं। इस प्रकार सुबह जल्दी उठकर स्नान करने से इन अवयवों को रोगों से बचाकर स्वस्थ रखा जा सकता है।

 *गर्म-ऊनी वस्त्र पर्याप्त मात्रा में पहनना, अत्यधिक ठंड से बचने हेतु रात्रि को गर्म कंबल ओढ़ना, रजाई आदि का उपयोग करना, गर्म कमरे में सोना, अलाव तापना लाभदायक है।*

 *अपथ्यः इस ऋतु में अत्यधिक ठंड सहना, ठंडा पानी, ठंडी हवा, भूख सहना, उपवास करना, रूक्ष, कड़वे, कसैले, ठंडे एवं बासी पदार्थों का सेवन, दिवस की निद्रा, चित्त को काम, क्रोध, ईर्ष्या, द्वेष से व्याकुल रखना हानिकारक है।*

Monday, October 22, 2018

अलसी - एक चमत्कारी आयुवर्धक, आरोग्यवर्धक दैविक भोजन --By 

- जब से परिष्कृत यानी “रिफाइन्ड तेल” (जो बनते समय उच्च तापमान, हेग्जेन, कास्टिक सोडा, फोस्फोरिक एसिड, ब्लीचिंग क्ले आदि घातक रसायनों के संपर्क से गुजरता है), ट्रांसफेट युक्त पूर्ण या आंशिक हाइड्रोजिनेटेड वसा यानी वनस्पति घी (जिसका प्रयोग सभी पैकेट बंद खाद्य पदार्थों व बेकरी उत्पादनों में धड़ल्ले से किया जाता है), रासायनिक खाद, कीटनाशक, प्रिजर्व...ेटिव, रंग, रसायन आदि का प्रयोग बढ़ा है तभी से डायबिटीज के रोगियों की संख्या बढ़ी है। हलवाई और भोजनालय भी वनस्पति घी या रिफाइन्ड तेल का प्रयोग भरपूर प्रयोग करते हैं और व्यंजनों को तलने के लिए तेल को बार-बार गर्म करते हैं जिससे वह जहर से भी बदतर हो जाता है। शोधकर्ता इन्ही को डायबिटीज का प्रमुख कारण मानते हैं। पिछले तीन-चार दशकों से हमारे भोजन में ओमेगा-3 वसा अम्ल की मात्रा बहुत ही कम हो गई है और इस कारण हमारे शरीर में ओमेगा-3 व ओमेगा-6 वसा अम्ल यानी हिंदी में कहें तो ॐ-3 और ॐ-6 वसा अम्लों का अनुपात 1:40 या 1:80 हो गया है जबकि यह 1:1 होना चाहिये। यह भी डायबिटीज का एक बड़ा कारण है। डायबिटीज के नियंत्रण हेतु आयुवर्धक, आरोग्यवर्धक व दैविक भोजन अलसी को “अमृत“ तुल्य माना गया है।

अलसी शरीर को स्वस्थ रखती है व आयु बढ़ाती है। अलसी में 23 प्रतिशत ओमेगा-3 फेटी एसिड, 20 प्रतिशत प्रोटीन, 27 प्रतिशत फाइबर, लिगनेन, विटामिन बी ग्रुप, सेलेनियम, पोटेशियम, मेगनीशियम, जिंक आदि होते हैं। सम्पूर्ण विश्व ने अलसी को सुपर स्टार फूड के रूप में स्वीकार कर लिया है और इसे आहार का अंग बना लिया है, लेकिन हमारे देश की स्थिति बिलकुल विपरीत है । अलसी को अतसी, उमा, क्षुमा, पार्वती, नीलपुष्पी, तीसी आदि नामों से भी पुकारा जाता है। अलसी दुर्गा का पांचवा स्वरूप है। प्राचीनकाल में नवरात्री के पांचवे दिन स्कंदमाता यानी अलसी की पूजा की जाती थी और इसे प्रसाद के रूप में खाया जाता था। जिससे वात, पित्त और कफ तीनों रोग दूर होते है।

- ओमेगा-3 हमारे शरीर की सारी कोशिकाओं, उनके न्युक्लियस, माइटोकोन्ड्रिया आदि संरचनाओं के बाहरी खोल या झिल्लियों का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। यही इन झिल्लियों को वांछित तरलता, कोमलता और पारगम्यता प्रदान करता है। ओमेगा-3 का अभाव होने पर शरीर में जब हमारे शरीर में ओमेगा-3 की कमी हो जाती है तो ये भित्तियां मुलायम व लचीले ओमेगा-3 के स्थान पर कठोर व कुरुप ओमेगा-6 फैट या ट्रांस फैट से बनती है, ओमेगा-3 और ओमेगा-6 का संतुलन बिगड़ जाता है, प्रदाहकारी प्रोस्टाग्लेंडिन्स बनने लगते हैं, हमारी कोशिकाएं इन्फ्लेम हो जाती हैं, सुलगने लगती हैं और यहीं से ब्लडप्रेशर, डायबिटीज, मोटापा, डिप्रेशन, आर्थ्राइटिस और कैंसर आदि रोगों की शुरूवात हो जाती है।

- आयुर्वेद के अनुसार हर रोग की जड़ पेट है और पेट साफ रखने में यह इसबगोल से भी ज्यादा प्रभावशाली है। आई.बी.एस., अल्सरेटिव कोलाइटिस, अपच, बवासीर, मस्से आदि का भी उपचार करती है अलसी।

- अलसी शर्करा ही नियंत्रित नहीं रखती, बल्कि मधुमेह के दुष्प्रभावों से सुरक्षा और उपचार भी करती है। अलसी में रेशे भरपूर 27% पर शर्करा 1.8% यानी नगण्य होती है। इसलिए यह शून्य-शर्करा आहार कहलाती है और मधुमेह के लिए आदर्श आहार है। अलसी बी.एम.आर. बढ़ाती है, खाने की ललक कम करती है, चर्बी कम करती है, शक्ति व स्टेमिना बढ़ाती है, आलस्य दूर करती है और वजन कम करने में सहायता करती है। चूँकि ओमेगा-3 और प्रोटीन मांस-पेशियों का विकास करते हैं अतः बॉडी बिल्डिंग के लिये भी नम्बर वन सप्लीमेन्ट है अलसी।

- अलसी कॉलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर और हृदयगति को सही रखती है। रक्त को पतला बनाये रखती है अलसी। रक्तवाहिकाओं को साफ करती रहती है अलसी।

- अलसी एक फीलगुड फूड है, क्योंकि अलसी से मन प्रसन्न रहता है, झुंझलाहट या क्रोध नहीं आता है, पॉजिटिव एटिट्यूड बना रहता है यह आपके तन, मन और आत्मा को शांत और सौम्य कर देती है। अलसी के सेवन से मनुष्य लालच, ईर्ष्या, द्वेश और अहंकार छोड़ देता है। इच्छाशक्ति, धैर्य, विवेकशीलता बढ़ने लगती है, पूर्वाभास जैसी शक्तियाँ विकसित होने लगती हैं। इसीलिए अलसी देवताओं का प्रिय भोजन थी। यह एक प्राकृतिक वातानुकूलित भोजन है।

- सिम का मतलब सेरीन या शांति, इमेजिनेशन या कल्पनाशीलता और मेमोरी या स्मरणशक्ति तथा कार्ड का मतलब कन्सन्ट्रेशन या एकाग्रता, क्रियेटिविटी या सृजनशीलता, अलर्टनेट या सतर्कता, रीडिंग या राईटिंग थिंकिंग एबिलिटी या शैक्षणिक क्षमता और डिवाइन या दिव्य है।



- त्वचा, केश और नाखुनों का नवीनीकरण या जीर्णोद्धार करती है अलसी। अलसी के शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट ओमेगा-3 व लिगनेन त्वचा के कोलेजन की रक्षा करते हैं और त्वचा को आकर्षक, कोमल, नम, बेदाग व गोरा बनाते हैं। अलसी सुरक्षित, स्थाई और उत्कृष्ट भोज्य सौंदर्य प्रसाधन है जो त्वचा में अंदर से निखार लाता है। त्वचा, केश और नाखून के हर रोग जैसे मुहांसे, एग्ज़ीमा, दाद, खाज, खुजली, सूखी त्वचा, सोरायसिस, ल्यूपस, डेन्ड्रफ, बालों का सूखा, पतला या दोमुंहा होना, बाल झड़ना आदि का उपचार है अलसी। चिर यौवन का स्रोता है अलसी। बालों का काला हो जाना या नये बाल आ जाना जैसे चमत्कार भी कर देती है अलसी। किशोरावस्था में अलसी के सेवन करने से कद बढ़ता है।

- लिगनेन का सबसे बड़ा स्रोत अलसी ही है जो जीवाणुरोधी, विषाणुरोधी, फफूंदरोधी और कैंसररोधी है। अलसी शरीर की रक्षा प्रणाली को सुदृढ़ कर शरीर को बाहरी संक्रमण या आघात से लड़ने में मदद करती हैं और शक्तिशाली एंटी-आक्सीडेंट है। लिगनेन वनस्पति जगत में पाये जाने वाला एक उभरता हुआ सात सितारा पोषक तत्व है जो स्त्री हार्मोन ईस्ट्रोजन का वानस्पतिक प्रतिरूप है और नारी जीवन की विभिन्न अवस्थाओं जैसे रजस्वला, गर्भावस्था, प्रसव, मातृत्व और रजोनिवृत्ति में विभिन्न हार्मोन्स् का समुचित संतुलन रखता है। लिगनेन मासिकधर्म को नियमित और संतुलित रखता है। लिगनेन रजोनिवृत्ति जनित-कष्ट और अभ्यस्त गर्भपात का प्राकृतिक उपचार है। लिगनेन दुग्धवर्धक है। लिगनेन स्तन, बच्चेदानी, आंत, प्रोस्टेट, त्वचा व अन्य सभी कैंसर, एड्स, स्वाइन फ्लू तथा एंलार्ज प्रोस्टेट आदि बीमारियों से बचाव व उपचार करता है।

- जोड़ की हर तकलीफ का तोड़ है अलसी। जॉइन्ट रिप्लेसमेन्ट सर्जरी का सस्ता और बढ़िया उपचार है अलसी। ¬¬ आर्थ्राइटिस, शियेटिका, ल्युपस, गाउट, ओस्टियोआर्थ्राइटिस आदि का उपचार है अलसी।

- कई असाध्य रोग जैसे अस्थमा, एल्ज़ीमर्स, मल्टीपल स्कीरोसिस, डिप्रेशन, पार्किनसन्स, ल्यूपस नेफ्राइटिस, एड्स, स्वाइन फ्लू आदि का भी उपचार करती है अलसी। कभी-कभी चश्में से भी मुक्ति दिला देती है अलसी। दृष्टि को स्पष्ट और सतरंगी बना देती है अलसी।

- अलसी बांझपन, पुरूषहीनता, शीघ्रस्खलन व स्थम्भन दोष में बहुत लाभदायक है।

- 1952 में डॉ. योहाना बुडविग ने ठंडी विधि से निकले अलसी के तेल, पनीर, कैंसररोधी फलों और सब्ज़ियों से कैंसर के उपचार का तरीका विकसित किया था जो बुडविग प्रोटोकोल के नाम से जाना जाता है। यह कर्करोग का सस्ता, सरल, सुलभ, संपूर्ण और सुरक्षित समाधान है। उन्हें 90 प्रतिशत से ज्यादा सफलता मिलती थी। इसके इलाज से वे रोगी भी ठीक हो जाते थे जिन्हें अस्पताल में यह कहकर डिस्चार्ज कर दिया जाता था कि अब कोई इलाज नहीं बचा है, वे एक या दो धंटे ही जी पायेंगे सिर्फ दुआ ही काम आयेगी। उन्होंने सशर्त दिये जाने वाले नोबल पुरस्कार को एक नहीं सात बार ठुकराया।



अलसी सेवन का तरीकाः- हमें प्रतिदिन 30 – 60 ग्राम अलसी का सेवन करना चाहिये। 30 ग्राम आदर्श मात्रा है। अलसी को रोज मिक्सी के ड्राई ग्राइंडर में पीसकर आटे में मिलाकर रोटी, पराँठा आदि बनाकर खाना चाहिये। डायबिटीज के रोगी सुबह शाम अलसी की रोटी खायें। कैंसर में बुडविग आहार-विहार की पालना पूरी श्रद्धा और पूर्णता से करना चाहिये। इससे ब्रेड, केक, कुकीज, आइसक्रीम, चटनियाँ, लड्डू आदि स्वादिष्ट व्यंजन भी बनाये जाते हैं।

अलसी को सूखी कढ़ाई में डालिये, रोस्ट कीजिये (अलसी रोस्ट करते समय चट चट की आवाज करती है) और मिक्सी से पीस लीजिये. इन्हें थोड़े दरदरे पीसिये, एकदम बारीक मत कीजिये. भोजन के बाद सौंफ की तरह इसे खाया जा सकता है .

अलसी की पुल्टिस का प्रयोग गले एवं छाती के दर्द, सूजन तथा निमोनिया और पसलियों के दर्द में लगाकर किया जाता है। इसके साथ यह चोट, मोच, जोड़ों की सूजन, शरीर में कहीं गांठ या फोड़ा उठने पर लगाने से शीघ्र लाभ पहुंचाती है। यह श्वास नलियों और फेफड़ों में जमे कफ को निकाल कर दमा और खांसी में राहत देती है।

इसकी बड़ी मात्रा विरेचक तथा छोटी मात्रा गुर्दो को उत्तेजना प्रदान कर मूत्र निष्कासक है। यह पथरी, मूत्र शर्करा और कष्ट से मूत्र आने पर गुणकारी है। अलसी के तेल का धुआं सूंघने से नाक में जमा कफ निकल आता है और पुराने जुकाम में लाभ होता है। यह धुआं हिस्टीरिया रोग में भी गुण दर्शाता है। अलसी के काढ़े से एनिमा देकर मलाशय की शुद्धि की जाती है। उदर रोगों में इसका तेल पिलाया जाता हैं।

अलसी के तेल और चूने के पानी का इमल्सन आग से जलने के घाव पर लगाने से घाव बिगड़ता नहीं और जल्दी भरता है। पथरी, सुजाक एवं पेशाब की जलन में अलसी का फांट पीने से रोग में लाभ मिलता है। अलसी के कोल्हू से दबाकर निकाले गए (कोल्ड प्रोसेस्ड) तेल को फ्रिज में एयर टाइट बोतल में रखें। स्नायु रोगों, कमर एवं घुटनों के दर्द में यह तेल पंद्रह मि.ली. मात्रा में सुबह-शाम पीने से काफी लाभ मिलेगा।

इसी कार्य के लिए इसके बीजों का ताजा चूर्ण भी दस-दस ग्राम की मात्रा में दूध के साथ प्रयोग में लिया जा सकता है। यह नाश्ते के साथ लें।

बवासीर, भगदर, फिशर आदि रोगों में अलसी का तेल (एरंडी के तेल की तरह) लेने से पेट साफ हो मल चिकना और ढीला निकलता है। इससे इन रोगों की वेदना शांत होती है।

अलसी के बीजों का मिक्सी में बनाया गया दरदरा चूर्ण पंद्रह ग्राम, मुलेठी पांच ग्राम, मिश्री बीस ग्राम, आधे नींबू के रस को उबलते हुए तीन सौ ग्राम पानी में डालकर बर्तन को ढक दें। तीन घंटे बाद छानकर पीएं। इससे गले व श्वास नली का कफ पिघल कर जल्दी बाहर निकल जाएगा। मूत्र भी खुलकर आने लगेगा।

इसकी पुल्टिस हल्की गर्म कर फोड़ा, गांठ, गठिया, संधिवात, सूजन आदि में लाभ मिलता है।

डायबिटीज के रोगी को कम शर्करा व ज्यादा फाइबर खाने की सलाह दी जाती है। अलसी व गैहूं के मिश्रित आटे में (जहां अलसी और गैहूं बराबर मात्रा में हो)|

Saturday, October 20, 2018

What Lord Krishna Explains To Arjuna

 All What is presented below is compiled and presented by Sri Vijay Kumar Singhal 

वैदिक गीता (कड़ी - ६०)

*अध्याय २ का सार*

1. श्रीकृष्ण जानते थे कि अर्जुन जो इस प्रकार की बातें कर रहा है तो इसलिए नहीं कि उसके मन में युद्ध के प्रति अरुचि उत्पन्न हो गयी है और वह अहिंसक वृत्ति का हो गया है। अर्जुन सैकड़ों युद्धों में अपना बल और कौशल दिखा चुका था। असंख्य वीरों का उसने संहार किया था। युद्ध उसकी प्रकृति में बसा हुआ था, वीरवृत्ति उसके रोम रोम में भरी हुई थी। वह कायरता को प्राप्त नहीं हुआ था। नपुंसकता का आरोप तो कृष्ण ने भी उसके ऊपर लगाकर देख लिया, लकिन वह तीर खाली गया। अर्जुन युद्ध के लिए पूरी तरह निश्यच करके और कृष्ण को अपना सारथी बनाकर ही कुरुक्षेत्र में आया था।

2. उस समय तक युद्ध अपरिहार्य हो गया था। युद्ध को टालने का प्रयत्न चारों ओर से किया जा चुका था, परन्तु सभी प्रयास असफल हो गये थे। युधिष्ठिर केवल पांच गांवों की न्यूनतम मांग मान लेने पर भी समझौते के लिए तैयार थे। कृष्ण जैसे महान् विद्वान कूटनीतिज्ञ की मध्यस्थता भी निष्फल हो गयी थी। जब दुर्योधन ने साफ कह दिया कि यु़द्ध के बिना मैं सुई की नोंक के बराबर भी भूमि नहीं दूँगा, तो युद्ध अवश्यंभावी हो गया था। ये सब बातें अर्जुन बहुत अच्छी तरह जानता था। अतः यह नहीं कहा जा सकता कि उसके मन में अहिंसावृत्ति पैदा हो गयी थी। उसने युद्ध के विरोध में जितने भी तर्क दिये थे, कृष्ण ने पूरी गीता में उनमें से एक का भी उत्तर नहीं दिया है। फिर भी अर्जुन को समाधान हुआ है। इसका अर्थ यही है कि अर्जुन युद्धविरोधी या अहिंसक नहीं हुआ था।

3. इस सारे विश्लेषण के बाद कृष्ण इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि अर्जुन मोहग्रस्त हो गया है। अपने मोह को सिद्धांतों का रूप देने के लिए ही वह ज्ञान बघारने लगा था। कृष्ण इसे समझ गये और इसीजिए उन्होंने अर्जुन की बातों पर ध्यान न देते हुए सीधे उसके मोह नाश का उपाय किया। गीता का सम्पूर्ण उपदेश अपने कर्तव्य पालन में बाधक बनने वाले इसी मोह पर गदा प्रहार है। अन्तिम अध्याय में जब सारा उपदेश दे चुकने के बाद श्रीकृष्ण ने पूछा- ‘अर्जुन तेरा मोह गया कि नहीं?’ तो अर्जुन उत्तर देता है, ‘हाँ, भगवन्, मेरा मोह नष्ट हो गया, मुझे अपने धर्म का ज्ञान हो गया। अब आप जो कह रहे हैं वही करूँगा।’ इस प्रकार गीता की भूमिका और उसके उपसंहार दोनों को मिलाकर देखें तो यह बात स्पष्ट हो जाती है कि मोह-नाश करना ही गीता का मुख्य उद्देश्य है।

*वैदिक गीता (कड़ी - ६१)*

*अध्याय २ का सार*

4. अर्जुन के मोह-नाश के लिए भगवान् श्रीकृष्ण ने तीन सिद्धान्तों का उपदेश दिया- सांख्य मार्ग, योग मार्ग
तथा स्वधर्माचरण की अनिवार्यता। कृष्ण ने अर्जुन की समस्या का इन तीनों दृष्टियों से विवेचन किया। इसमें उनका आशय यह है कि यदि शुरू में जीवन के मुख्य तत्व गले उतर जायें, जिनके आधार पर जीवन की
इमारत खड़ी करनी है, तो आगे का मार्ग सरल हो जाएगा। गीता में इन मूल सिद्धान्तों का नये नये अर्थों में
प्रयोग किया गया है। पुराने शब्दों का नये संदर्भों में प्रयोग करके नये भाव ग्रहण करना विचार क्रांति की
अहिंसक प्रक्रिया है। इससे गीता के सिद्धान्तों को व्यापक अर्थ मिला और अनेक विचारक अपनी-अपनी भावना तथा अनुभव के आधार पर अनेक अर्थ ले सके।

5. उपनिषद में एक कथा है कि एक बार देवता, दैत्य और मानव तीनों ब्रह्मा जी के पास उपदेश लेने गये।
ब्रह्मा ने तीनों को केवल एक ही अक्षर बताया- ‘द’। देवताओं, दैत्यों और मानवों ने इसका अपने-अपने अनुभव के अनुसार क्रमशः दमन, दया और दान का अर्थ लगाया। प्रजापति ब्रह्मा ने उन तीनों ही अर्थों को ठीक माना। इसी प्रकार गीता में भी सांख्य और योग इन दोनों मूल सिद्धान्तों का व्यापक अर्थ में प्रयोग किया गया है। यही गीता की विशेषता है।

6. सांख्य का अर्थ है- ‘सम्यक् ख्यायते इति सांख्य’ अर्थात् जिस मार्ग से युक्तिपूर्ण समझाया जाये वह सांख्य मार्ग है। इस अध्याय में अर्जुन की समस्या का सांख्य दृष्टि से विवेचन किया गया है। जिस प्रकार सांख्य दर्शन में प्रकृति और पुरुष को अलग-अलग माना गया है, उसी प्रकार इस अध्याय में शरीर और आत्मा, देह और देही का अलग-अलग विवेचन किया गया है। श्रीकृष्ण ने सांख्य दर्शन के अनुसार दो सिद्धान्तों को स्पष्ट किया है। पहला सिद्धान्त तो यह है कि ‘आत्मा अमर है, अविनाशी है’ और दूसरा सिद्धांत यह है कि ‘शरीर मरणधर्मा है, विनाशी है।’ जैसे हम पुराने कपड़े उतारकर नये पहन लेते हैं, वैसे ही आत्मा पुराने शरीर को छोड़कर नया धारण कर लेती है। इसे न शस्त्र छेद सकते हैं, न अग्नि जला सकती है, न पानी गला सकता है, न वायु सुखा सकती है। जो आत्मा इस प्रकार अमर है, उसके लिए यह सोचकर कि यह मर जाएगा, इस तरह शोक करना कहां तक संगत हो सकता है? इसी प्रकार जो उत्पन्न होता है, वह मरता ही है, मरना तो अपरिहार्य है, इससे कोई बच नहीं सकता। फिर शरीर के मरने पर हाय-हाय क्या करना? आत्मा अमर है, उसे कोई नष्ट नहीं कर सकता और शरीर मरणधर्मा है उसे कोई बचा नहीं सकता, इसलिए कृष्ण ने कहा कि हे अर्जुन, दोनों दृष्टियों से तेरा शोक करना निरर्थक है।

*वैदिक गीता (कड़ी - ६२)*

*अध्याय २ का सार*

७. श्रीकृष्ण ने ‘स्वधर्माचरण’ के नाम से एक तीसरे सिद्धांत की बात भी उठाई है। पिछले दोनों सिद्धांत ज्ञातव्य थे यानी जानने योग्य थे,  जबकि यह तीसरा सिद्धांत कर्तव्य है अर्थात् करने योग्य है। प्रत्येक व्यक्ति को जन्म से अपना-अपना धर्म प्राप्त होता है। स्वधर्म को कहीं खोजने नहीं जाना पड़ता। यहाँ धर्म का अभिप्राय हिन्दू-मुस्लिम-यहूदी-ईसाई आदि प्रचलित धर्मों या पंथों से नहीं है, बल्कि अपने प्राकृतिक धर्म यानी कर्तव्य से है। मनुष्य की जो प्रकृति है, जैसा स्वभाव है, वही उसका धर्म है। जिस प्रकार हमारे माता-पिता जन्म से ही निश्चित होते हैं उसी प्रकार जन्म से ही हमारा धर्म भी निश्चित हो जाता है।

8. ब्राह्मण स्वभाव वाला व्यक्ति यदि व्यापार करने लगेगा, तो घाटा ही उठायेगा। वैश्व स्वभाव वाला व्यक्ति
यदि पढ़ाने-लिखाने का कार्य करेगा, तो हम समय वेतन की ही चिन्ता करेगा। इसी प्रकार युद्ध करना तो
क्षत्रियों का धर्म है, दुष्ट की दुष्टता, अन्यायी के अन्याय को सहन न करना ही क्षात्र-धर्म है। इसलिए सांख्य दर्शन के अनुसार अर्जुन को अपने क्षत्रियत्व रूपी धर्म का पालन करना चाहिए। स्वधर्म के अनुसार ही अपना कार्य करना हमारा कर्तव्य है। इसलिए कृष्ण ने कहा कि हे अर्जुन! यदि तू क्षत्रिय है तो क्षत्रियोचित धर्म की ही बात कर और युद्ध के लिए निश्चय करके खड़ा हो जा।

9. स्वधर्म हमें इतनी सहजता से प्राप्त है कि हमसे अपने आप उसी का पालन होते रहना चाहिए। परन्तु अनेक कारणों से ऐसा नहीं हो पाता और यदि होता भी है तो उसमें कई प्रकार के दोष आ जाते हैं। उन कारणों में प्रमुख है मोह अर्थात् संकीर्ण बुद्धि। ‘मैं और मेरे शरीर से सम्बंधित वस्तुएं ही मेरी हैं, बाकी सब कुछ दूसरों का है’ भेद की इस दीवार को ही मोह कहा जाता है। मेरे-तेरे के चक्कर में पड़कर हम अनेक प्रकार की दीवारें खड़ी कर लेते हैं। ये दीवारें ही स्वधर्माचरण में बाधा बनती हैं। ऐसी दशा में स्वधर्मनिष्ठा अकेली पर्याप्त नहीं
होती, उसके साथ अन्य दो सिद्धान्तों को भी याद रखना पड़ता है। एक तो यह कि मैं मरियल देह नहीं हूँ यह
तो केवल ऊपर की है और दूसरा यह कि मैं कभी न मरने वाला अखण्ड और व्यापक आत्मा हूँ। इन दोनों को
मिलाकर एक पूर्ण तत्वज्ञान होता है। इतना तत्वज्ञान यदि मन में अंकित हो जाये, तो फिर स्वधर्म हमें बिल्कुल भारी नहीं पड़ेगा।

*वैदिक गीता (कड़ी - ६३)*

*अध्याय २ का सार*

10. अर्जुन के सामने युद्ध क्षेत्र में जो समस्या उत्पन्न हुई थी, वही समस्या हमारे जीवन-क्षेत्र में हमारे सामने
प्रत्येक क्षण उत्पन्न होती रहती है। इन समस्याओं का हल भगवान श्रीकृष्ण ने दो प्रकार से दिया। एक तो सांख्य की दृष्टि से, कि यह याद रखकर चलें कि आत्मा अमर है, देह नाशवान् है और हमें अपने धर्म का पालन करना है। दूसरा हल योग दृष्टि से यह कहकर दिया कि मानव के जीवन की समस्या कर्मकाण्ड से, भोगवाद से तथा कामनाओं से हल नहीं हो सकती, बल्कि इसका हल कर्मयोग है। जीवन के सिद्धान्तों केा व्यवहार में लाने की जो कला या युक्ति है, उसी को योग कहते हैं। ‘सांख्य’ का अर्थ है सिद्धान्त और ‘योग’ का अर्थ है व्यवहार या कला।

11. कर्मयोग का अर्थ बताते हुए भगवान कृष्ण ने कहा कि कर्म तो अवश्य करो, लेकिन फल में अपना अधिकार मत मानो। यदि फल के प्रति आसक्ति छोड़़ दी जाये तो मनुष्य को सुख-दुख दोनों ही अनुभव नहीं होंगे और वह सन्तोष से रह सकेगा। हमें दुःख तभी अनुभव होता है, जब हमें कर्म के फल की प्राप्ति नहीं होती और फल प्राप्त हो जाने पर सुख मालूम पड़ता है। इस प्रकार फल के प्रति आसक्ति ही सुख और दुःख का कारण है। यदि हम इस आसक्ति को छोड़ दें तो दुःख होने का प्रश्न ही नहीं उठता। जो कर्म करता है उसे फल का अधिकार अवश्य है, परन्तु गीता का कर्मयोग कहता है कि तुम उस अधिकार को स्वेच्छा से छोड़ दो। तमोगुण कहता है कि यदि मैं फल छोडूंगा तो कर्म सहित छोडूंगा और रजोगुण कहता है कि मैं कर्म करूंगा तो फल भी लूंगा। ये दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। इसलिए हम दोनों से ऊपर उठकर सतोगुणी बनें अर्थात् हम कर्म तो करेंगे पर फल की इच्छा छोड़ देंगे और फल की इच्छा छोड़कर ही कर्म करेंगे। यही गीता का निष्काम कर्मयोग है।

12. फल की इच्छा मत करो, यह कहते हुए भगवान ने यह भी कहा है कि हमारा कर्म उत्कृष्ट अर्थात् श्रेष्ठ होना चाहिए। सकाम पुरुष के कर्म की अपेक्षा निष्काम पुरुष का कर्म अधिक अच्छा होना चाहिए। सकाम पुरुष फलासक्त होने के कारण फल सम्बंधी चिन्तन में अपना थोड़ा समय और श्रम अवश्य लगायेगा, किन्तु फल की इच्छा न रखने वाले व्यक्ति का तो प्रत्येक क्षण और सारी शक्ति कर्म में ही लगी रहेगी। नदी को कभी छुट्टी नहीं, हवा को विश्राम नहीं, सूर्य को आराम नहीं। इसी प्रकार निष्काम कर्ता सतत क्रियाशील होना चाहिए। ऐसे निरन्तर कार्यरत पुरुष का कम उत्कृष्ट होगा ही। चित्त की समता का योग होने पर हस्तकौशल में और अधिक निखार आता है। निष्काम पुरुष में चित्त का समत्व स्वयमेव उत्पन्न हो जाता है। अपने समस्त कर्मों को कुशलता के साथ करना ही योग है और यही सच्चे कर्मयोगी की पहचान है। यदि हम गहराई से विचार करें तो निष्काम कर्म ही सच्चा कर्म है। इस शरीर में इस कामनारहित स्वधर्माचरण रूपी सुन्दर फल लग चुकने के बाद और किसी फल की आवश्यकता नहीं है। भगवान श्रीकृष्ण ने तो यहाँ तक कहा है कि निष्काम कर्म करते हुए अकर्म की अर्थात् कर्म-मुक्ति की भी इच्छा मत रख। जब हम मोक्ष तक की इच्छा को छोड़ देते हैं, तभी सच्चे कर्मयोगी कहे जा सकते हैं।

*वैदिक गीता (कड़ी - ६४)*

*अध्याय २ का सार*

13. अर्जुन की जिज्ञासा है- ‘भगवन् ऐसे पुरुष के लक्षण बताइए जिन्हें स्थितप्रज्ञ कहते हैं, जिनकी बुद्धि में ज्ञान योग समा गया है और जिनके रोम रोम में कर्म योग व्याप्त हो गया है।’ इसलिए भगवान ने इस अध्याय के अन्तिम 17 श्लाकों में स्थितप्रज्ञ का उदात्त वर्णन किया है। ‘स्थितप्रज्ञ’ यानी स्थिर बुद्धि वाला मनुष्य! परन्तु संयम के बिना बुद्धि स्थिर कैसे होगी? गीता का कहना है कि संसार के विषय ब़ड़े प्रबल हैं, इन्हें देखकर हमारी इन्द्रियां अपने को वश में नहीं रख सकतीं। मनुष्य कितना ही यत्न करे, पर इन्द्रियां उसे विषयों की ओर खींच ही ले जाती हैं। भले ही विषयों को भोगने से मन में क्षणिक शांति आती हो, परन्तु वह स्थायी शांति नहीं होती। हमें क्षणिक शांति नहीं चाहिए, हमें चिरकाल तक टिकने वाली ऐसी शांति चाहिए जिसमें बुद्धि भटकती न रहे, वरन् स्थिर होकर अमृतपान करती रहे। इसलिए गीता में स्थितप्रज्ञ को संयम मूर्ति बताया गया है। संयम का अर्थ है कि बुद्धि आत्मनिष्ठ हो और सभी आंतरिक इन्द्रियां बुद्धि के अधीन हों।स्थितप्रज्ञ सारी इन्द्रियों पर लगाम लगाकर उन्हें कर्मयोग में जोतता है।

14. यह इन्द्रिय संयम सरल नहीं है। विषय भोगों से इन्द्रियों को समेट लेना और परमार्थ के काम में उनका
उचित उपयोग करना बहुत कठिन संयम है। इसके लिए महान् प्रयत्न की आवश्यकता होती है। जब मनुष्य मन की सभी कामनाओं को त्याग देता है, जब विषयों में शांति खोजने के बजाय आत्मा अपने में स्थित हो जाता है, जब वह सुख-दुःख को समान रूप से स्वीकार करता है, तब उसे शांति प्राप्त होती है। इसके लिए हमें मन को विषयों से मिलने वाले रसों से भी बड़े रस परमब्रह्म की अनुभूति में लगाना पड़ेगा। गीता ने इसी को ‘भक्ति’ कहा है। भक्तिरस के सामने संसार के समस्त रस तुच्छ हो जाते हैं और हमारा चित्त शांत हो जाता है।स्थितप्रज्ञ का यही रूप है।

*(अध्याय २ का सार समाप्त)*



— *विजय कुमार सिंघल*

Inspirational Short Stories



केवल एक दिन का पुण्य(क्यूं)

एकादशी से अगले दिन एक भिखारी  एक सज्जन की दुकान पर भीख मांगने पहुंचा। सज्जन व्यक्ति ने 1 रुपये का सिक्का निकाल कर उसे दे दिया।
भिखारी को प्यास भी लगी थी,वो बोला बाबूजी एक गिलास पानी भी पिलवा दो,गला सूखा जा रहा है। सज्जन व्यक्ति गुस्से में तुम्हारे बाप के नौकर बैठे हैं क्या हम यहां,पहले पैसे,अब पानी,थोड़ी देर में रोटी मांगेगा,चल भाग यहां से।

भिखारी बोला:-

बाबूजी गुस्सा मत कीजिये मैं आगे कहीं पानी पी लूंगा।पर जहां तक मुझे याद है,कल इसी दुकान के बाहर मीठे पानी की छबील लगी थी और आप स्वयं लोगों को रोक रोक कर जबरदस्ती अपने हाथों से गिलास पकड़ा रहे थे,मुझे भी कल आपके हाथों से दो गिलास शर्बत पीने को मिला था।मैंने तो यही सोचा था,आप बड़े धर्मात्मा आदमी है,पर आज मेरा भरम टूट गया।
कल की छबील तो शायद आपने लोगों को दिखाने के लिये लगाई थी।
मुझे आज आपने कड़वे वचन बोलकर अपना कल का सारा पुण्य खो दिया। मुझे माफ़ करना अगर मैं कुछ ज्यादा बोल गया हूँ तो।
सज्जन व्यक्ति को बात दिल पर लगी, उसकी नजरों के सामने बीते दिन का प्रत्येक दृश्य घूम गया। उसे अपनी गलती का अहसास हो रहा था। वह स्वयं अपनी गद्दी से उठा और अपने हाथों से गिलास में पानी भरकर उस बाबा को देते हुए उसे क्षमा प्रार्थना करने लगा।

भिखारी:-

बाबूजी मुझे आपसे कोई शिकायत नही,परन्तु अगर मानवता को अपने मन की गहराइयों में नही बसा सकते तो एक दो दिन किये हुए पुण्य व्यर्थ है।
मानवता का मतलब तो हमेशा शालीनता से मानव व जीव की सेवा करना है।
आपको अपनी गलती का अहसास हुआ,ये आपके व आपकी सन्तानों के लिये अच्छी बात है।
आप व आपका परिवार हमेशा स्वस्थ व दीर्घायु बना रहे ऐसी मैं कामना करता हूँ,यह कहते हुए भिखारी आगे बढ़ गया।

सेठ ने तुरंत अपने बेटे को आदेश देते हुए कहा:-

कल से दो घड़े पानी दुकान के आगे आने जाने वालों के लिये जरूर रखे हो।उसे अपनी गलती सुधारने पर बड़ी खुशी हो रही थी।

 *सिर्फ दिखावे के लिए किये  गए पुण्यकर्म निष्फल हैं, सदा हर प्राणी के लिए आपके मन में शुभकामना शुभ भावना हो यही सच्चा पुण्य है
_____________________________________________



      "कोई आपके लिए अपने मन में क्या विचार रखता है, इसकी चिंता करना व्यर्थ व् मूर्खता है।
        किसी के दृष्टिकोण व् विचारों पर हमारा नियंत्रण नही है, किन्तु हमारे कार्य व् व्यवहार पर हमारा नियंत्रण है।
अतः अपना श्रेष्ठ करते रहें और शेष सब ईश्वर व् समय पर छोड़ दें।"

__________________________________________________

"दृष्टिकोण" ...

ट्रेन में दो बच्चे यहाँ-वहाँ दौड़ रहे थे, कभी आपस में झगड़ जाते तो कभी किसी सीट के उपर कूदते।
पास ही बैठा पिता किन्हीं विचारों में खोया था। बीच-बीच में जब बच्चे उसकी ओर देखते तो वह एक स्नेहिल मुस्कान बच्चों पर डालता और फिर बच्चे उसी प्रकार अपनी शरारतों में व्यस्त हो जाते और पिता फिर उन्हें निहारने लगता।

ट्रेन के सहयात्री बच्चों की चंचलता से परेशान हो गए थे और पिता के रवैये से नाराज़। चूँकि रात्रि का समय था अतः सभी आराम करना चाहते थे। बच्चों की भागदौड़ को देखते हुए एक यात्री से रहा न गया और लगभग झल्लाते हुए बच्चों के पिता से बोल उठा-"कैसे पिता हैं आप ? बच्चे इतनी शैतानियां कर रहे हैं और आप उन्हें रोकते- टोकते नहीं, बल्कि मुस्कुराकर प्रोत्साहन दे रहे हैं। क्या आपका दायित्त्व नहीं कि आप इन्हें समझाएं???

उस सज्जन की शिकायत से अन्य यात्रियों ने राहत की साँस ली कि अब यह व्यक्ति लज्जित होगा और बच्चों को रोकेगा। परन्तु उस पिता ने कुछ क्षण रुक कर कहा कि-"कैसे समझाऊं बस यही सोच रहा हूं भाईसाहब"।

यात्री बोला-"मैं कुछ समझ नहीं"

व्यक्ति बोला-"मेरी पत्नी अपने मायके गई थी वहाँ एक दुर्घटना के चलते कल उसकी मौत हो गई। मैं बच्चों को उसके अंतिम दर्शनों के लिए ले जा रहा हूँ।और इसी उलझन में हूँ कि कैसे समझाऊं इन्हें कि अब ये अपनी मां को कभी देख नहीं पाएंगे।"

उसकी यह बात सुनकर जैसे सभी लोगों को साँप सूंघ गया। बोलना तो दूर सोचने तक का सामर्थ्य जाता रहा सभी का।
बच्चे यथावत शैतानियां कर रहे थे। अभी भी वे कंपार्टमेंट में दौड़ लगा रहे थे। वह व्यक्ति फिर मौन हो गया। वातावरण में कोई परिवर्तन न हुआ पर वे बच्चे अब उन यात्रियों को शैतान, अशिष्ट नहीं लग रहे थे बल्कि ऐसे नन्हें कोमल पुष्प लग रहे थे जिन पर सभी अपनी ममता उड़ेलना चाह रहे थे।

उनका पिता अब उन लोगों को लापरवाह इंसान नहीं वरन अपने जीवन साथी के विछोह से दुखी दो बच्चों का अकेला पिता और माता भी दिखाई दे रहा था।

कहने को तो यह एक कहानी है सत्य या असत्य। पर एक मूल बात यह अनुभूत हुई कि... आखिर क्षण भर में ही इतना परिवर्तन कैसे सभी के व्यवहार में आ गया।
क्योंकि उनकी दृष्टि में परिवर्तन आ चुका था।

हम सभी इसलिए उलझनों में हैं, क्यों कि हमने अपनी धारणाओं रूपी उलझनों का संसार अपने इर्द- गिर्द स्वयं रच लिया है।
मैं यह नहीं कहता कि किसी को परेशानी या तकलीफ नहीं है... पर क्या निराशा या नकारात्मक विचारों से हम उन परिस्थितियों को बदल सकते हैं?

नहीं ना ...

आवश्यकता है एक आशा, एक उत्साह से भरी सकारात्मक सोच की, फिर परिवर्तन तत्क्षण आपके भीतर आपको अनुभव होगा।
उस लहर में हताशा की मरुभूमि भी नंदन वन की भांति सुरभित हो उठेगी।

दोस्तों,
बदला जाय दृष्टिकोण तो इंसान बदल सकता है ...
दृष्टिकोण के परिवर्तन से सारा जहां बदल सकता है ...

साभार प्रस्तुति

______________________________________________

एक लड़का था. बहुत ब्रिलियंट था. सारी जिंदगी फर्स्ट आया. साइंस में हमेशा 100% स्कोर किया. अब ऐसे लड़के आम तौर पर इंजिनियर बनने चले जाते हैं, सो उसका भी सिलेक्शन हो गया IIT चेन्नई में. वहां से B Tech किया और वहां से आगे पढने अमेरिका चला गया. वहां से आगे की पढ़ाई पूरी की. M.Tech वगैरा कुछ किया होगा फिर उसने यूनिवर्सिटी ऑफ़ केलिफ़ोर्निआ से MBA किया.
.
अब इतना पढने के बाद तो वहां अच्छी नौकरी मिल ही जाती है. सुनते हैं कि वहां भी हमेशा टॉप ही किया. वहीं नौकरी करने लगा. बताया जाता है कि 5 बेडरूम का घर था उसके पास. शादी यहाँ चेन्नई की ही एक बेहद खूबसूरत लड़की से हुई थी. बताते हैं कि ससुर साहब भी कोई बड़े आदमी ही थे, कई किलो सोना दिया उन्होंने अपनी लड़की को दहेज़ में.
.
अब हमारे यहाँ आजकल के हिन्दुस्तान में इस से आदर्श जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती. एक आदमी और क्या मांग सकता है अपने जीवन में? पढ़ लिख के इंजिनियर बन गए, अमेरिका में सेटल हो गए, मोटी तनख्वाह की नौकरी, बीवी बच्चे, सुख ही सुख, इसके बाद हीरो हेरोइने सुखपूर्वक वहां की साफ़ सुथरी सड़कों पर भ्रष्टाचार मुक्त माहौल में सुखपूर्वक विचरने लगे|

आप उस इंजिनियर लड़के का क्या फ्यूचर देखते हैं लाइफ में? सब बढ़िया ही दीखता है? पर नहीं, आज से तीन साल पहले उसने वहीं अमेरिका में, सपरिवार आत्महत्या कर ली. अपनी पत्नी और बच्चों को गोली मार कर खुद को भी गोली मार ली. What went wrong? आखिर ऐसा क्या हुआ, गड़बड़ कहाँ हुई.
.
ये कदम उठाने से पहले उसने बाकायदा अपनी wife से discuss किया, फिर एक लम्बा suicide नोट लिखा और उसमें बाकायदा justify किया अपने इस कदम को और यहाँ तक लिखा कि यही सबसे श्रेष्ठ रास्ता था इन परिस्थितयों में. उनके इस केस को और उस suicide नोट को California Institute of Clinical Psychology ने study किया है. What went wrong?
.
हुआ यूँ था कि अमेरिका की आर्थिक मंदी में उसकी नौकरी चली गयी. बहुत दिन खाली बैठे रहे. नौकरियां ढूंढते रहे. फिर अपनी तनख्वाह कम करते गए और फिर भी जब नौकरी न मिली, मकान की किश्त जब टूट गयी, तो सड़क पे आने की नौबत आ गयी. कुछ दिन किसी पेट्रोल पम्प पे तेल भरा बताते हैं. साल भर ये सब बर्दाश्त किया और फिर अंत में ख़ुदकुशी कर ली... ख़ुशी ख़ुशी और उसकी बीवी भी इसके लिए राज़ी हो गयी, ख़ुशी ख़ुशी. जी हाँ लिखा है उन्होंने कि हम सब लोग बहुत खुश हैं, कि अब सब कुछ ठीक हो जायेगा, सब कष्ट ख़तम हो जायेंगे.
.
इस case study को ऐसे conclude किया है experts ने : This man was programmed for success but he was not trained,how to handle failure. यह व्यक्ति सफलता के लिए तो तैयार था, पर इसे जीवन में ये नहीं सिखाया गया कि असफलता का सामना कैसे किया जाए.
.
आइये ज़रा उसके जीवन पर शुरू से नज़र डालते हैं. बहुत तेज़ था पढने में, हमेशा फर्स्ट ही आया. ऐसे बहुत से Parents को मैं जानता हूँ जो यही चाहते हैं कि बस उनका बच्चा हमेशा फर्स्ट ही आये, कोई गलती न हो उस से. गलती करना तो यूँ मानो कोई बहुत बड़ा पाप कर दिया और इसके लिए वो सब कुछ करते हैं, हमेशा फर्स्ट आने के लिए. फिर ऐसे बच्चे चूंकि पढ़ाकू कुछ ज्यादा होते हैं सो खेल कूद, घूमना फिरना, लड़ाई झगडा, मार पीट, ऐसे पंगों का मौका कम मिलता है बेचारों को,12 th कर के निकले तो इंजीनियरिंग कॉलेज का बोझ लद गया बेचारे पर, वहां से निकले तो MBA और अभी पढ़ ही रहे थे की मोटी तनख्वाह की नौकरी. अब मोटी तनख्वाह तो बड़ी जिम्मेवारी, यानी बड़े बड़े targets.
.
कमबख्त ये दुनिया , बड़ी कठोर है और ये ज़िदगी, अलग से इम्तहान लेती है. आपकी कॉलेज की डिग्री और मार्कशीट से कोई मतलब नहीं उसे. वहां कितने नंबर लिए कोई फर्क नहीं पड़ता. ये ज़िदगी अपना अलग question paper सेट करती है. और सवाल ,सब out ऑफ़ syllabus होते हैं, टेढ़े मेढ़े, ऊट पटाँग और रोज़ इम्तहान लेती है. कोई डेट sheet नहीं.
.
एक अंग्रेजी उपन्यास में एक किस्सा पढ़ा था. एक मेमना अपनी माँ से दूर निकल गया. आगे जा कर पहले तो भैंसों के झुण्ड से घिर गया. उनके पैरों तले कुचले जाने से बचा किसी तरह. अभी थोडा ही आगे बढ़ा था कि एक सियार उसकी तरफ झपटा. किसी तरह झाड़ियों में घुस के जान बचाई तो सामने से भेड़िये आते दिखे. बहुत देर वहीं झाड़ियों में दुबका रहा, किसी तरह माँ के पास वापस पहुंचा तो बोला, माँ, वहां तो बहुत खतरनाक जंगल है. Mom, there is a jungle out there.
.
*इस खतरनाक जंगल में जिंदा बचे रहने की ट्रेनिंग अभी से अपने बच्चों को दीजिये*.।
साभार

Trained them and train yourself for struggle of life that not mentioned in school"s  sylbus ?

_____________________________________________


*एक पढ़ने योग्य कहानी!*
*अवश्य पढ़ें......*
💫💫💫💫💫💫💫🌝🌝🌝🌝🌝🌝🌝
एक *छोटे व्यापारी* ने *साहूकार* से *उधार* में रुपए लिए किंतु निर्धारित समय पर लौटा नहीं पाया। *साहूकार बूढा और बदसूरत* था लेकिन उस *व्यापारी की खूबसूरत, जवान बेटी* पर निगाह रखता था।
साहूकार ने व्यापारी से कहा कि, *अगर वो अपनी बेटी का विवाह उससे कर दे तो वह उधार की रकम ब्याज सहित भूल जाएगा।*

व्यापारी और उसकी बेटी, साहूकार के इस सौदे से परेशान हो उठे।

साहूकार, व्यापारी से बोला, *" मैं एक खाली थैली में एक सफ़ेद और एक काला कंकड़ रखता हूँ। तुम्हारी बेटी बिना देखे थैली से एक कंकड़ बाहर निकालेगी। अगर उसने काला कंकड़ निकाला तो उसे मुझसे विवाह करना होगा और तुम्हारा सारा कर्ज माफ कर दिया जाएगा।*
*अगर उसने सफ़ेद कंकड़ निकाला तो, उसे मुझसे शादी नहीं करनी पड़ेगी और तुम्हारा कर्ज भी माफ़ कर दिया जाएगा।*
*लेकिन अगर तुम्हारी बेटी थैली से कंकड़ निकालने से इन्कार करेगी तो मैं तुम्हें जेल भिजवा दूँगा। "*

*इस समय साहूकार, व्यापारी और उसकी बेटी, व्यापारी के बगीचे के उस रास्ते पर खड़े थे जिसपर सफ़ेद और काली मिक्स बजरी बिछी हुई थी।*
फिर सौदे के अनुसार साहूकार ने झुककर उस बिछी हुई बजरी में से दो कंकड़ उठाए और अपने हाँथ में पकड़ी हुई खाली थैली में उन्हें डाल दिया।
साहूकार जब कंकड़ उठा रहा था तब, बेटी ने अपनी तीखी नजरों से ये देख लिया कि, बेईमान साहूकार ने बजरी में से दोनों कंकड़ काले रंग के ही उठाए और थैली में डाले हैं।
फिर साहूकार ने लड़की से कहा कि, *वो थैली में से एक कंकड़ निकाले।*

तो, अगर आप उस लड़की की जगह होते तो, आप क्या करते ???
या अगर आप से कहा जाता कि, आप उस लड़की को सही सलाह दीजिए तो आप क्या सलाह देते ??

ध्यान से देखा जाए तो तीन संभावनाएँ हैं :
1. *लड़की कंकड़ निकालने से इन्कार कर देगी।*
2. *लड़की बोल देगी कि, साहूकार ने बेईमानी की है और दोनों काले कंकड़ ही थैली में डाले हैं।*
3. *लड़की एक काला कंकड़ निकाल कर अपनी जिंदगी से समझौता कर लेगी और अपने पिता को कर्ज और जेल से बचाएगी।*

इस कहानी में अच्छा-बुरा, दिल-दिमाग, होनी-अनहोनी की अजीबोगरीब जंग है।

फाइनली, लड़की ने थैली में अपना हाँथ डाला और एक कंकड़ निकाला।फिर बिना देखे उसे नीचे पड़ी हुई बजरी में फेंक दिया। थैली से निकला कंकड़ काली सफ़ेद बजरी में मिलकर खो गया, यानी पहचानना असंभव कि, लड़की ने कौनसा कंकड़ फेंका।
फिर लड़की बोली--- *" ओह, सॉरी! मैं भी कितनी बेवकूफ हूँ , बिना देखे ही कंकड़ फेंक दिया। चलो कोई बात नहीं, अभी एक कंकड़ तो थैली में है ना। उसे देखकर आप बता सकते हैं कि, मैंने किस रंग का कंकड़ थैली से निकाला था। अगर उसमे काला कंकड़ शेष है तो इसका मतलब मैंने सफ़ेद कंकड़ थैली में से निकाला था। "*

साहूकार अपनी चीटिंग के कारण जानता था कि, थैली में तो काला कंकड़ ही है, लेकिन अपनी बेईमानी वो कबूल कर नहीं सकता था। इस हिसाब से लड़की ने सफ़ेद कंकड़ ही थैली से निकाला, यह स्पष्ट था।
*साहूकार निराश हो गया और उसका चेहरा लटक गया। लड़की ने अपनी बुद्धिमानी से एक असम्भव सी विपरीत परिस्थिति को अपने हक़ में बदल डाला।*

MORAL OF THE STORY:

*समस्याओं का समाधान संभव है, बस आवश्यकता है, उनके बारे में अलग नजरिए से, अलग दृष्टि से, अलग प्रकार से, ठंडे दिमाग से सोचने की।*

______________________________________________€


बहुत सुन्दर कथा

एक महिला रोज मंदिर जाती थी ! एक दिन उस महिला ने पुजारी से कहा अब मैं मंदिर नही आया करूँगी !

इस पर पुजारी ने पूछा -- क्यों ?

तब महिला बोली -- मैं देखती हूँ लोग मंदिर परिसर में अपने फोन से अपने व्यापार की बात करते हैं ! कुछ ने तो मंदिर को ही गपशप करने का स्थान चुन रखा है ! कुछ पूजा कम पाखंड,दिखावा ज्यादा करते हैं !

इस पर पुजारी कुछ देर तक चुप रहे फिर कहा -- सही है ! परंतु अपना अंतिम निर्णय लेने से पहले क्या आप मेरे कहने से कुछ कर सकती हैं !

महिला बोली -आप बताइए क्या करना है ?

पुजारी ने कहा -- एक गिलास पानी भर लीजिए और 2 बार मंदिर परिसर के अंदर परिक्रमा लगाइए । शर्त ये है कि गिलास का पानी गिरना नहीं चाहिये !

महिला बोली -- मैं ऐसा कर सकती हूँ !

फिर थोड़ी ही देर में उस महिला ने ऐसा ही कर दिखाया ! उसके बाद मंदिर के पुजारी ने महिला से 3 सवाल पूछे -

1.क्या आपने किसी को फोन पर बात करते देखा?

2.क्या आपने किसी को मंदिर में गपशप करते देखा?

3.क्या किसी को पाखंड करते देखा?

महिला बोली -- नहीं मैंने कुछ भी नहीं देखा !

फिर पुजारी बोले --- जब आप परिक्रमा लगा रही थीं तो आपका पूरा ध्यान गिलास पर था कि इसमें से पानी न गिर जाए इसलिए आपको कुछ दिखाई नहीं दिया|

 अब जब भी आप मंदिर आयें तो अपना ध्यान सिर्फ़ परम पिता परमात्मा में ही लगाना फिर आपको कुछ दिखाई नहीं देगा| सिर्फ भगवान ही सर्वत्र दिखाई देगें|

      '' जाकी रही भावना जैसी ..
        प्रभु मूरत देखी तिन तैसी|''

जीवन मे दुःखो के लिए कौन जिम्मेदार है ?

 👉🏻ना भगवान,
 👉🏻ना गृह-नक्षत्र,
 👉🏻ना भाग्य,
 👉🏻ना रिश्तेदार,
 👉🏻ना पडोसी,
 👉🏻ना सरकार,

जिम्मेदार आप स्वयं है|

1) आपका सरदर्द, फालतू विचार का परिणाम|

2) पेट दर्द, गलत खाने का परिणाम|

3) आपका कर्ज, जरूरत से ज्यादा खर्चे का परिणाम|

4) आपका दुर्बल /मोटा /बीमार शरीर, गलत जीवन शैली का परिणाम|

5) आपके कोर्ट केस, आप के अहंकार का परिणाम|

6) आपके फालतू विवाद, ज्यादा व् व्यर्थ बोलने का परिणाम|

            उपरोक्त कारणों के अलावा सैकड़ों कारण है और बेवजह दोषारोपण दूसरों पर करते रहते हैं | इसमें ईश्वर दोषी नहीं है|
अगर हम इन कष्टों के कारणों पर बारिकी से विचार करें तो पाएंगे की कहीं न कहीं हमारी मूर्खताएं ही इनके पीछे है|

आपका जीवन प्रकाशमय हो तथा शुभ हो|

शुभकामनायें


_______________________________________________

यह भी नहीं रहने वाला* 

         एक साधु देश में यात्रा के लिए पैदल निकला हुआ था। एक बार रात हो जाने पर वह एक गाँव में आनंद नाम के व्यक्ति के दरवाजे पर रुका।
*आनंद ने साधू  की खूब सेवा की। दूसरे दिन आनंद ने बहुत सारे उपहार देकर साधू को विदा किया।*

साधू ने आनंद के लिए प्रार्थना की  - "भगवान करे तू दिनों दिन बढ़ता ही रहे।"

       *साधू की बात सुनकर आनंद हँस पड़ा और बोला - "अरे, महात्मा जी! जो है यह भी नहीं रहने वाला ।" साधू आनंद  की ओर देखता रह गया और वहाँ से चला गया ।*

      दो वर्ष बाद साधू फिर आनंद के घर गया और देखा कि सारा वैभव समाप्त हो गया है । पता चला कि आनंद अब बगल के गाँव में एक जमींदार के यहाँ नौकरी करता है । साधू आनंद से मिलने गया।

*आनंद ने अभाव में भी साधू का स्वागत किया । झोंपड़ी में फटी चटाई पर बिठाया । खाने के लिए सूखी रोटी दी । दूसरे दिन जाते समय साधू की आँखों में आँसू थे । साधू कहने लगा - "हे भगवान् ! ये तूने क्या किया ?"*

     आनंद पुन: हँस पड़ा और बोला - "महाराज  आप क्यों दु:खी हो रहे है ? महापुरुषों ने कहा है कि भगवान्  इन्सान को जिस हाल में रखे, इन्सान को उसका धन्यवाद करके खुश रहना चाहिए। समय सदा बदलता रहता है और सुनो ! यह भी नहीं रहने वाला।"

      *साधू मन ही मन सोचने लगा - "मैं तो केवल भेष से साधू  हूँ । सच्चा साधू तो तू ही है, आनंद।"*

      कुछ वर्ष बाद साधू फिर यात्रा पर निकला और आनंद से मिला तो देखकर हैरान रह गया कि आनंद  तो अब जमींदारों का जमींदार बन गया है ।  मालूम हुआ कि जिस जमींदार के यहाँ आनंद  नौकरी करता था वह सन्तान विहीन था, मरते समय अपनी सारी जायदाद आनंद को दे गया।

*साधू ने आनंद  से कहा - "अच्छा हुआ, वो जमाना गुजर गया ।   भगवान्  करे अब तू ऐसा ही बना रहे।"*

    *यह सुनकर आनंद  फिर हँस पड़ा और कहने लगा - "महाराज  ! अभी भी आपकी नादानी बनी हुई है।"*

  साधू ने पूछा - "क्या यह भी नहीं रहने वाला ?"

    *आनंद उत्तर दिया - "हाँ! या तो यह चला जाएगा या फिर इसको अपना मानने वाला ही चला जाएगा । कुछ भी रहने वाला नहीं  है और अगर शाश्वत कुछ है तो वह है परमात्मा और उस परमात्मा की अंश आत्मा।"*

आनंद  की बात को साधू ने गौर से सुना और चला गया।

     *साधू कई साल बाद फिर लौटता है तो देखता है कि आनंद  का महल तो है किन्तू कबूतर उसमें गुटरगूं कर रहे हैं, और आनंद  का देहांत हो गया है। बेटियाँ अपने-अपने घर चली गयीं, बूढ़ी पत्नी कोने में पड़ी है ।*

*साधू कहता है - "अरे इन्सान! तू किस बात का अभिमान करता है ? क्यों इतराता है ? यहाँ कुछ भी टिकने वाला नहीं है, दु:ख या सुख कुछ भी सदा नहीं रहता। तू सोचता है पड़ोसी मुसीबत में है और मैं मौज में हूँ । लेकिन सुन, न मौज रहेगी और न ही मुसीबत। सदा तो उसको जानने वाला ही रहेगा। सच्चे इन्सान वे हैं, जो हर हाल में खुश रहते हैं। मिल गया माल तो उस माल में खुश रहते हैं, और हो गये बेहाल तो उस हाल में खुश रहते हैं।"*

 साधू कहने लगा - "धन्य है आनंद! तेरा सत्संग, और धन्य हैं तुम्हारे सतगुरु! मैं तो झूठा साधू हूँ, असली फकीरी तो तेरी जिन्दगी है। अब मैं तेरी तस्वीर देखना चाहता हूँ, कुछ फूल चढ़ाकर दुआ तो मांग लूं।"

  *साधू दूसरे कमरे में जाता है तो देखता है कि आनंद  ने अपनी तस्वीर  पर लिखवा रखा है - "आखिर में यह भी  नहीं रहेगा* ।"

*विचार करे*




Wednesday, October 10, 2018

Eye Opener---Drastic Change In Our Thoughts


*परिवर्तन देखिये*
1. पहले शादियों में घर की औरतें खाना बनाती थीं और नाचने वाली बाहर से आती थीं। अब खाना बनाने वाले बाहर से आते हैं और घर की औरतें नाचती हैं।
2- पहले लोग घर के दरवाजे पर एक आदमी तैनात करते थे ताकि कोई कुत्ता घर में न घुस जाये। आजकल घर के दरवाजे पर कुत्ता तैनात करते हैं ताकि कोई आदमी घर में न घुस जाए।
3- पहले आदमी खाना घर में खाता था और लैट्रीन घर के बाहर करने जाता था। अब खाना बाहर खाता है और लैट्रीन घर में करता है।
4- पहले आदमी साइकिल चलाता था और गरीब समझा जाता था। अब आदमी कार से ज़िम जाता है साइकिल चलाने के लिए।
       
चारों महत्वपुर्ण बदलाव हैं !
वाह रे मानव तेरा स्वभाव....
।। लाश को हाथ लगाता है तो नहाता है ...
पर बेजुबान जीव को मार के खाता है ।।
यह मंदिर-मस्ज़िद भी क्या गजब की जगह है दोस्तो.
जंहा गरीब बाहर और अमीर अंदर 'भीख' मांगता है..
विचित्र दुनिया का कठोर सत्य..
          बारात मे दुल्हे सबसे पीछे
            और दुनिया  आगे चलती है,
         मय्यत मे जनाजा आगे
           और दुनिया पीछे चलती है..
           यानि दुनिया खुशी मे आगे
          और दुख मे पीछे हो जाती है..!
अजब तेरी दुनिया
गज़ब तेरा खेल
मोमबत्ती जलाकर मुर्दों को याद करना
और मोमबत्ती बुझाकर जन्मदिन मनाना...
Wah re duniya !!!!!
लाइन छोटी है,पर मतलब बहुत बड़ा है ~
उम्र भर उठाया बोझ उस कील ने ...
और लोग तारीफ़ तस्वीर की करते रहे ..
〰〰〰〰〰〰
पायल हज़ारो रूपये में आती है, पर पैरो में पहनी जाती है
और.....
बिंदी 1 रूपये में आती है मगर माथे पर सजाई जाती है
इसलिए कीमत मायने नहीं रखती उसका कृत्य मायने रखता हैं.
〰〰〰〰〰〰
एक किताबघर में पड़ी गीता और कुरान आपस में कभी नहीं लड़ते,
और
जो उनके लिए लड़ते हैं वो कभी उन दोनों को नहीं पढ़ते....
〰〰〰〰〰〰〰〰
नमक की तरह कड़वा ज्ञान देने वाला ही सच्चा मित्र होता है,
मिठी बात करने वाले तो चापलुस भी होते है।
इतिहास गवाह है की आज तक कभी नमक में कीड़े नहीं पड़े।
और मिठाई में तो अक़्सर कीड़े पड़ जाया करते है...
〰〰〰〰〰〰〰
अच्छे मार्ग पर कोई व्यक्ति नही जाता पर बुरे मार्ग पर सभी जाते है......
इसीलिये दारू बेचने वाला कहीं नही जाता ,
पर दूध बेचने वाले को घर-घर
गली -गली , कोने- कोने जाना पड़ता है ।
〰〰〰〰〰〰〰〰
दूध वाले से बार -बार पूछा जाता है कि पानी तो नहीं डाला ?
पर दारू मे खुद हाथो से पानी मिला-मिला कर पीते है ।
*बहुत खूबसूरत पंक्ती:*
इंसान की समझ सिर्फ इतनी हैं,
कि उसे "जानवर" कहो तो नाराज हो जाता हैं
और "शेर" कहो तो खुश हो जाता हैं।
जबकि शेर भी जानवर का ही नाम है!

Friday, October 5, 2018

Yoga For Stomach Problem And Joint & Knee Pain

29.09.2018  Sri  Jagmohangautam says:

साधको, भारतीय संस्कृति की स्वस्थ रहने की अनूठी परम्परा योग को जीवन शैली में उतारने के लिए हमने एक साप्ताहिक धारावाहिक प्रारम्भ किया है जिसकी दो कड़ियाँ क्रमशः जागरूकता हेतु *योग एवम जीवन शैली* एवम आसन योग्य जकड़े हुए शरीर को लचीला बनाने हेतु *सूक्ष्म व्यायाम* आप तक पहुंचा चुके हैं। *पेट* शरीर का वह महत्वपूर्ण अंग है जिसका स्वस्थ रहने में सबसे अधिक योगदान है, इसी को आधार बनाकर आयुर्वेद एवम प्राकृतिक चिकित्सा में रोग का उपचार प्रारम्भ होता है।

आज हम इस मैसेज के साथ पेट से सम्बंधित समस्त समस्याओं का समाधान आपके समक्ष एक वीडियो के माध्यम से आप तक पहुंचा रहे है। आधुनिक जीवन शैली ने आजकल पेट की समस्या से सबको जकड़ रखा है। इस वीडियो में  पेट की समस्या, इसके कारण, इसके निवारण हेतु किये जाने वाले आसन एवम प्राणायाम एवम उपचार, निषिद्ध बताए गए है। कृपया इनका उपयोग करें । हम अगले सप्ताह आज की जीवन शैली के  दूसरे महत्वपूर्ण अभिशाप *घुटनों की समस्या* पर आपसे वार्तालाप करेंगे।

धन्यवाद

 --जग मोहन गौतम
Sri Jagmohangautam Further says: वीडियो के लिए कृपया नीचे दिए लिंक को टिक करें एवम अपनी टिप्पणी देना न भूलें।

https://youtu.be/YBg9QxOqYKE



26.10.2018

प्रिय साधको,

मानव जाति के ऊपर रोगों का आक्रमण जिस तेजी से हो रहा है एवम अपनी बिगड़ती दिन चर्या के कारण वह जिस तरह से अपने आपको असहाय अनुभव कर रहा है, उस स्थिति में हमको स्वस्थ रहने के लिए अपनी पुरातन विधा यथा *योग, आयुर्वेद एवम प्राकृतिक चिकित्सा* की शरण में जाना ही होगा। योग की महत्ता रोग साधक एवम नाशक दोनों रूप में पीढ़ी दर पीढ़ी के अनुभव एवम अनुसंधान से सर्व मान्य हो चुकी है। इसी स्वस्थ जीवन शैली को मित्रों के जीवन का अभिन्न अंग बनाने हेतु हमने एक साप्ताहिक श्रंखला प्रारम्भ की है, जिसकी आज चौथी कड़ी आपके मध्य  *घुटनों की समस्या* प्रस्तुत कर रहा हूँ।

इसके पूर्व पेट जो रोगों की जड़ है के कारण, निदान एवम निषेध पर आपसे वीडियो साझा की थी क्योंकि  पेट से ही अधिकतर रोग पीड़ित है। मुझको मात्र कुछ मित्रों की प्रतिक्रिया इस पर प्राप्त हुई है, सम्भवतः आपने इसकी महत्ता को नहीं समझा है। आपसे अनुरोध है 29 सिंतबर को साझा वीडियो को अवश्य जीवन में उतारे एवम प्रभु की मानव की स्वस्थ रहने की परिकल्पना में सहयोगी बनें। यही पूजा है, इदायत है एवम भक्ति है।

https://youtu.be/VL5POgL3lP8


https://youtu.be/cJcosKOgbz4




हमारा अगला विषय होगा *मांसपेशियों व जोड़ो के दर्द* जो आपको अगली शनिवार प्राप्त होगा।

My Amazon