Thursday, April 5, 2018

Visiting Temple Regularly Is Healthy..Why??

Following received by me whatsapp ----

Why only Coconut and Banana 🍌are offered in the temples ? 

Coconut and Banana are the only two fruits which are considered to be the "Sacred fruits". All other fruits are tainted fruits ( partially eaten fruits), meaning other fruits have seeds and which have the capacity to reproduce !

But in the case of coconut, if you eat coconut and throw its outer shell, nothing will grow out of it. If you want to grow a coconut tree, you have to sow the entire coconut itself.

Similarly Banana. If you eat a banana and throw its out sleeves, nothing will grow out of it. Banana tree is grown on its own when a banana plant start giving fruits.

The outer shell of coconut is the Ahamkara or ego, which one has to break. Once the ego is shed the mind will be as pure as the white tender coconut inside. The Bhavaavesha or Bhakthi will pour like the sweet water in it. The 3 eyes on the top they explain as Satwa, Raja and Tama or Past , Present and Future or Sthoola, Sukshma and Karana Sareera or body etc

Our ancestors had found this reality long ago and they had made it as a system which is till followed religiously.!

WHY ONE SHOULD VISIT TEMPLES REGULARLY...?

Here is the scientific Reason. Must read and share...

There are hundreds of temples all over India in different size, shape and locations but not all of them are considered to be in the Vedic way.
Generally, the temples are located in a place where earth's magnetic waves pass through.

In simple terms, these temples are located strategically at a place where the positive energy is abundantly available from the magnetic wave distribution of north/ south pole thrust.

Because of its location, where high magnetic values are available, the Main Idol is placed in the center, and also because they place a copper plate written with some Vedic scripts, which is buried, beneath the Main Idol's placement known as "Garbhagriha"  or  Moolasthan, the copper absorbs the earth’s magnetic waves and radiates to the surroundings.

Thus a person who regularly visits a temple and makes clockwise pradakshina of the Main Idol's placement, automatically receives the beamed magnetic waves which get absorbed by his body.
This is very slow and a regular visit will make him absorb more energy, known as positive energy.

In addition, the Sanctum Sanctorum is completely enclosed on three sides. The effect of all energies is very high in here. The lamp that is lit radiates the heat and light energy.

The ringing of the bells and the chanting of prayers gives sound energy.

The fragrance from the flowers, the burning of camphor give out chemical energy.

The effect of all these energies is activated by the positive energy that comes out of the idol.

This is in addition to the north/south pole magnetic energy that is absorbed by the copper plate and utensils that are kept in the Moolasthan.

The water used for the Pooja is mixed with Cardamom, Benzoin, Holy Basil (Tulsi), Clove, etc is the "Theertham".

This water becomes more energized because it receives the positive-ness of all these energies combined.

When persons go to the temple for Deepaaraadhana, and when the doors open up, the positive energy gushes out onto the persons who are there.

The water that is sprinkled onto the people passes on the energy to all.

That is the reason why, men are not allowed to wear shirts to the temple and ladies have to wear more ornaments because it is through these jewels (metal) that positive energy is absorbed in ladies.

It is proved that Theertham is a very good blood purifier, as it is highly energized.

In addition, temples offer holy water (about three spoons).

This water is mainly a source of magneto therapy as they place the copper water vessel at the Garbhagriha.

It also contains cardamom, clove, saffron, etc to add taste and Tulsi (holy Basil) leaves are put into the water to increase its medicinal value..!
The clove essence protects one from tooth decay, the saffron & Tulsi leave essence protects one from common cold and cough, cardamom and benzoine known as Pachha Karpuram, acts as a mouth refreshing agents.

This way, one's health too is protected, by regularly visiting Temples.. !

Following added by one reader of This blog.

Nice article.  I want to add bit more information.  Earlier the temples were use to be built at the top of some small mountain.  The purpose was the worshippers should have some physical exercise as well.

The Camphor is a air purifier, keeps the small insects at a safer distance besides it has medical values,  it keeps away cough, cold and now swine flu also.

You can find a scientific reason behind every ritual.

          

Wednesday, April 4, 2018

MAJOR AMENDMENTS IN INCOME TAX APPLICABLE FOR A.Y. 2018-19

MAJOR AMENDMENTS IN INCOME TAX APPLICABLE FOR A.Y. 2018-19😊

1. Limit for payment of expenses by cash (Both capital and revenue expenditure) reduced from RS. 20,000 to RS. 10,000 per day in aggregate per person.

2. No Person shall receive an amount of two lakh rupees or more, by cash (Sec 269ST).

3. For below Rs. 2 crores turnover cases - For Non cash sales (through Digital, Online, cheque, Bank etc.) : Net Profit will be taken as 6% of Turnover/ Gross Receipt. It is 8% For Cash Sales.

 4. Tax Exemption limit is Rs.2,50,000/- (same as earlier) After that, up to 5 Lakh, Tax rate is 5% (earlier it was 10%).

5. Tax rebate is reduced to Rs.2500 from Rs.5000 per year for taxpayers with income up to Rs.3,50,000 (earlier Rs.5,00,000).

6. Surcharge at 10 percent of tax levied on rich taxpayers with income between Rs.50 Lakh and Rs.1 Crore. The rate for surcharge for the super-rich, with income above Rs.1 Crore will remain 15%.

7. Payment of Rent - Rs.50,000 per month by any Individual or HUF (not subject to Tax Audit requirement) - Deduct TDS @ 5%.

8. Long Term Capital gain in respect of Land and Building period reduced from 3 Years to 2 Years and Base year shifted from 01/04/1981 to 01/04/2001.

9. Corporate tax rate for the account year 2017-18 for companies with annual turnover up to Rs.50 crores (in account year 2015-16) is reduced to 25%. No change in firm tax rate of 30%.

10. Donation made exceeding Rs.2000 in cash will be not be eligible for deduction under section 80G.

11. Shares of unquoted shares to be taxed at (deemed) fair value.

12. Tax exemption will be available on reinvestment of capital gains in notified redeemable bonds (In addition to investment in NHAI and REC bonds).

13. Deduction for first time investors in listed equity shares or listed units of equity oriented funds under the Rajiv Gandhi Equity Savings Scheme under section 80CCG of IT act 1961 is withdrawn from FY 2017-18. If an individual has already claimed deduction under this scheme before April 1, 2017, They shall be allowed to avail a deduction for the next two years.

14. No tax is applicable for partial withdrawals from National Pension System. NPS subscribers will be able to withdraw 25% of their contribution to the corpus for emergencies before retirement. Withdrawal of 40% of the corpus is tax free before retirement.

 15. In absence of PAN of the buyer of specified goods, the rate of TCS will be twice of the extent rate or 5%, whichever is higher.

16. From Financial Year 2017-18, if Return is not filed within due date, late fee of Rs.5,000 for delay up to 31st December, and Rs.10,000 thereafter. Such fee will be restricted to Rs.1,000 for small taxpayers with income up to Rs.5 lakh.

 17. A simple one page tax return form is to be introduced for Individual with taxable income up to Rs. 5 lakh (excluding Business Income). Those filing returns for the first time in this category will generally not be subject to scrutiny.

18. Time period for revision of tax return cut to one year (from 2 years) from the end of relevant financial year or before completion of assessment, whichever is earlier.

19. Where Section 12AA registered trusts modify their object clause, they need to apply within 30 Days to CIT for approval.

 20. It is mandatory to disclose the Aadhar number while filing IT Return. Earlier it was optional to disclose Aadhar number. Generally the last date of filing IT return is 31 July. Therefore, it is advisable for taxpayer to get their Aadhar number at the earliest


Important changes as per Budget 2018 with effect from April 1, 2018 which are going to impact 

👉From today onwards a large number of Indians will see significant changes in their financial life. April 1 is the first day of the next financial year, 2018-19. The Budget proposals for the new financial year, announced on February 1, will come into force from today. *Below are the key changes which are going to affect individuals as well as companies*:

👉All taxpayers will pay a bit of more tax due to hike in and education cess. Budget 2018 had proposed to hike cess on income tax from 3% to 4% thereby increasing the tax payable by all categories of tax payers. Due to this change, the tax liability for highest tax bracket (assuming Rs 15 lakh income) goes up by Rs 2,625. For the middle income tax payers (between Rs 5 lakh and Rs 10 lakh), tax liability increases by Rs 1,125, and for the lowest bracket (Rs 2.5 lakhs to Rs 5 lakhs) by Rs 125

👉Senior citizens
If you have lots of money earning interest, you need not bother about tax as much as you used to. The exemption limit on income from interest for senior citizens will now be five times higher to Rs 50,000 per year. Those planning to upgrade or buy insurance will benefit from higher limit of deduction for health insurance premium and medical expenditure which has been raised to Rs 50,000 from Rs 30,000 under section 80D of the I-T Act.

👉Investors
Investors will pay tax on long-term capital gains (LTCG) exceeding Rs 1 lakh from sale of shares. However, indexation benefit for computing tax liability on sale of shares listed after January 31 will be available.

👉The salaried and the pensioners
The Budget proposed a standard deduction of Rs 40,000 in lieu of transport allowance and medical reimbursement. This will kick in from April 1. Presently, no tax is applicable on Rs 19,200 of transport allowance and medical expenditure of up to Rs 15,000. This has now been subsumed into the new standard deduction of Rs 40,000.

👉Small businesses
If the turnover of your company is up to Rs 250 crore, you have a big reason to cheer. You will pay less corporate tax, at 25 per cent. As 99 per cent of the tax-filing companies fall in this bracket, this is really a big change.

👉All companies
Every companies will have to adopt more detailed revenue recognition ways from April 1 as the government has notified a new accounting standard. Indian Accounting Standard (Ind AS) 115 would be effective from the new financial year, that is tomorrow. Once it is in force, the other two standards, Ind AS 18 and 11, which are related to revenue and construction contracts, would be withdrawn.

👉Drivers
If you drive on national highways, get ready to pay more from April 1. National Highways Authority of India has revised its toll rates by 5 to 7 per cent. The rates have been revised on the basis of Wholesale Price Index (WPI) and may vary from one toll plaza to another in the same region.

👉Transporters
The businesses that transport goods worth over Rs 50,000 from one state to another will have to carry an electronic or e-way bill from April 1. An anti-evasion measure that would help boost tax collections by clamping down on trade that currently happens on cash basis, the *e-way bill* provision of the Goods and Services Tax (GST) was introduced on February 1.


Folowing appeared in Financial  Express 5th March 2018

Link to newspsper Financial Express

Income Tax planning for 2018-19:

New tax rules every taxpayer should know.
As we step into the new fiscal year, it is imperative that we plan our finances. Let us review the key changes which may impact the cash flow and investment decisions for FY2018-19.


Start of the year is a perfect time to plan investments with an oversight of the changes from a tax perspective, so that one does not lose the small benefits which are now available.

As we step into the new fiscal year, it is imperative that we plan our finances. Financial planning needs to be done considering the changes introduced in this year’s Union Budget. So let us review the key changes which may impact the cash flow and investment decisions for the tax year 2018-19, from an individual tax perspective.

Tax slabs in the new year have not changed vis-a-vis the last year.

Lowest tax rate continues to stay at 5% and the maximum at 30%.

The tax exemption income limits for different categories of individual taxpayers are as mentioned below:

Individuals below 60 years – Rs 250,000

Individuals over 60 years and under 80 years – Rs 300,000
Individuals over 80 years and above – Rs 500,000

Given the fact that the status quo in tax slabs has not delighted the individual taxpayer, the government continues to levy an additional cess on the income tax.

To address the education and health needs of the poor and rural families, the erstwhile secondary and higher education cess of 3% has been replaced with a 4% ‘Health and Education Cess’. Consequently, the maximum marginal rate of tax has increased from 35.535% to 35.88%.

The salaried class may have something to celebrate as starting from the tax year 2018-19, the government has reintroduced the “standard deduction” of Rs 40,000.

Standard Deduction was last abolished in the Finance Act 2005. It is a fixed amount of deduction by which gross salary can be reduced to calculate taxable income under the head “salary”.

The deduction of Rs 40,000 replaces the exemption available towards transport allowance of Rs 1,600 per month and medical reimbursement of Rs 15,000 per annum, which will no longer be available from the tax year 2018-19.

Senior citizens have been looked at favorably by the Finance Minister as various benefits have been given to this class of taxpayers in the form of increased deduction limits. Deduction from interest income earned by senior citizens will henceforth be governed by a new section. As per the new provisions, senior citizens can avail a higher deduction of Rs 50,000 in respect of interest income earned by them from deposits held in banks, post offices and co-operative banks. At the same time, threshold limit for deduction of tax at source on interest income for senior citizens has been raised from Rs 10,000 to Rs 50,000.

Another benefit to cheer senior citizens has been given by way of an increase in the deduction limit for payment of health insurance premiums. Till last year, the deduction available was restricted to Rs 30,000; which has now been raised to Rs 50,000. This will boost investment in health insurance policies by senior citizens, to help them stay sufficiently covered in case of any unforeseen circumstances.

In addition to above, the limit of deduction with respect to expenditure incurred on medical treatment of specified diseases (e.g. malignant cancers, chronic renal failure, hematological disorders, etc.) in case of a senior citizen has been increased to Rs 1 lakh. Deduction available until last year was Rs 60,000 in case of senior citizens and Rs 80,000 in case of very senior citizens.

Barring the above beneficial changes for senior citizens, individuals will now have to pay tax at the rate of 10% on long-term capital gains in excess of Rs 1 lakh, arising from transfer of equity shares, equity-oriented mutual funds and unit of business trust where securities transaction tax has been paid. Further, no benefit of indexation will be available against such gain. A section providing the method to grandfather the long-term capital gains earned till January 31, 2018 has been inserted for the assets which are sold after March 31, 2018. As regards the intervening period i.e. February 01, 2018 and March 31, 2018 the tax exemption status continues.

In line with the changes brought in the capital gain tax regime, the deduction from long-term capital gain available under section 54EC of the IT Act in case of transfer of any long-term capital asset will now be restricted to transfer of land and building only. Further, exemption under this section will be available if the capital gain amount is invested in bonds issued by National Highways Authority of India (NHAI) or Rural Electrification Corporation Limited (REC) or any bond as notified by the Central Government, issued on or after 1 April 2018, and redeemable after five years.

National Pension Scheme (NPS) is another tax saving instrument under which employees are currently allowed tax-free withdrawal up to 40% of the total amount payable on closure of the account or on opting out of the scheme. In order to motivate the investment in this scheme and also to bring parity between salaried and self-employed investors, this exemption has now been extended to all the subscribers.

Start of the year is a perfect time to plan investments with an oversight of the changes from a tax perspective, so that one does not lose the small benefits which are now available. “While it may seem small, ripple effects of small things are extraordinary” – Matt Bevin.

(By Divya Baweja, Partner, Deloitte India; Divya Agarwal, Senior Manager, and Mitesh Agrawal, Manager with Deloitte Haskins and Sells LLP)

Wednesday, March 28, 2018

पायरिया : कारण और निवारण

*पायरिया : कारण और निवारण*

आजकल पायरिया की शिकायत बहुत पायी जाती है। इसके लक्षण हैं- सुबह उठते ही मुँह कड़वा या चिपचिपा होना, मुँह से दुर्गन्ध आना, दाँतों में गर्म-ठंडा पानी लगना, मसूड़े फूलना, मसूड़ों से खून या मवाद निकलना, मसूड़ों में टीस होना आदि। इनमें से एक या अधिक लक्षण एक साथ हो सकते हैं।

यह रोग तथाकथित आधुनिक सभ्यता की देन है। डिब्बा बन्द खाद्य, सफेद चीनी, मैदा, पालिश किये हुए चावल, चोकर रहित आटा आदि का सेवन करना इसका प्रमुख कारण है। इनसे शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती है। कैल्शियम की कमी से शरीर की हड्डियाँ कमजोर या खोखली हो जाती हैं। हमारे दाँत भी एक प्रकार की हड्डी हैं।

पायरिया को गलती से केवल दाँतों की बीमारी मान लिया जाता है। वास्तव में यह दाँतों के साथ साथ पेट की भी बीमारी है। जब लम्बे समय तक कब्ज बना रहता है और दाँत-मसूड़े भी कमजोर हो जाते हैं तब यह बीमारी होती है। इसलिए पायरिया में दाँतों से पहले पेट का इलाज करना चाहिए। जो लोग केवल किसी टूथपेस्ट या मंजन के सहारे पायरिया दूर करने का दावा करते हैं वे झूठे और ठग हैं।

आप चाहे कोई भी मंजन या पेस्ट कितने भी सालों तक करते रहें, लेकिन जब तक क़ब्ज़ और कैल्शियम की कमी दूर नहीं होगी, तब तक पायरिया नहीं जाएगा। कैल्शियम की कमी दूर करने के लिए आपको अपने भोजन में चोकर सहित आटा, हाथ के कुटे चावल, अंकुरित अन्न, हरी सब्ज़ियाँ, दूध, केला, मूँगफली, नारियल, सूखे मेवा आदि को शामिल करना चाहिए और सफेद चीनी की जगह गुड़ का उपयोग करना चाहिए।

मसूड़ों की तकलीफ प्राय: विटामिन सी की कमी से भी होती है। इसलिए हमारे आहार में खट्ठे फलों जैसे नीबू, संतरा, सेव, अनन्नास आदि का भी समावेश होना चाहिए। इसके साथ ही कब्ज को दूर करना भी आवश्यक है। इसके लिए भारी चीजें खाना बंद करके फल, सलाद और सब्जी अधिक खानी चाहिए और खूब पानी पीना चाहिए।

दाँतों और मसूड़ों को मज़बूत करने के लिए महीन पिसे हुए सेंधा नमक तथा सरसों के तेल के पेस्ट का मंजन प्रतिदिन एक या दो बार करना चाहिए। दाँतों पर नीबू का छिलका अन्दर बाहर रगड़ना चाहिए। जहाँ तक सम्भव हो ब्रश का अधिक उपयोग न करें क्योंकि उससे मसूड़े छिल जाते हैं। इसकी जगह नीम या देशी बबूल की दातुन बेखटके की जा सकती है।

मुख की दुर्गंध बाहर न आये और पास बैठे व्यक्तियों को असुविधा न हो, इसके लिए जाडों में लौंग (लवंग) तथा गर्मियों में छोटी इलायची चबाते रहना चाहिए। ऐसे लोगों को पान सुपाड़ी कभी नहीं खानी चाहिए।

ऐसा करने से केवल १५-२० दिन में पायरिया निश्चित ही दूर हो जाएगा।

-- *विजय कुमार सिंघल*
चैत्र शु. १२, सं २०७५ वि (२८ अप्रेल, २०१८)

Saturday, March 24, 2018

*हकलाने का सरल उपचार*

*हकलाने का सरल उपचार*

अटक-अटककर बोलना हकलाना कहा जाता है। इससे पीड़ित व्यक्ति कुछ विशेष शब्दों या अक्षरों को बोलने में अटक जाते हैं। कभी-कभी वे किसी शब्द के पहले अक्षर को ही कई बार दोहराकर वह शब्द बोल पाते हैं, जैसे- ब ब ब... बलभद्र !

कुछ बच्चे २-३ साल की उम्र में ही हकलाने लगते हैं। हालाँकि यह शिकायत बड़ी उम्र के व्यक्तियों में भी पायी जाती है। पीड़ित की उम्र चाहे कुछ भी हो, इसका पता चलते ही उसका उपचार प्रारम्भ कर देना चाहिए।

हकलाना कोई शारीरिक बीमारी नहीं है, बल्कि आत्मविश्वास की कमी के कारण होती है, अर्थात् यह एक प्रकार का मानसिक रोग है। इसलिए पीड़ित का आत्मविश्वास बढ़ाकर इसका सफल उपचार किया जा सकता है।

वैसे तो कई डॉक्टर और क्लीनिक भी हकलाने वाले व्यक्तियों को स्पीच थेरापी देते हैं, परन्तु सबसे अच्छा उपचार पीड़ित के माता-पिता या घर वाले ही दे सकते हैं। इसके कुछ उपाय यहाँ बताये जा रहे हैं।

सबसे पहले यह पता लगाइए कि वह व्यक्ति किन शब्दों को बोलने में हकलाता है। ऐसे शब्दों को दो या तीन टुकडों में तोड़कर बोलने का अभ्यास कराना चाहिए। जैसे यदि कोई व्यक्ति “बलभद्र” बोलने में हकलाता है, तो उससे “बल” और “भद्र” को अलग-अलग बुलवाना चाहिए। इसके अलावा उससे मिलते-जुलते शब्दों को बोलने का अभ्यास भी कराना चाहिए, जैसे- बलराम, बलदाऊ, बल्ब, वीरभद्र आदि।

सामान्य अभ्यास के लिए पीड़ित से अखबार या कोई किताब थोड़ी ज़ोर से बोलकर पढ़ने के लिए कहना चाहिए। इससे उसका आत्मविश्वास निश्चित रूप से बढेगा। ॐकार ध्वनि और भ्रामरी का प्रतिदिन पाँच-पाँच मिनट नियमित अभ्यास भी इसमें बहुत सहायक होगा। धैर्यपूर्वक कई सप्ताहों तक अभ्यास करने पर ही इसमें लाभ होगा।

कभी भी हकलाने वाले व्यक्ति का मज़ाक़ नहीं बनाना चाहिए। जो बच्चे उसका मज़ाक़ उड़ाते हैं उनको मना करें और डाँटें। अपने बच्चे को ऐसे बच्चों के साथ नहीं खेलने देना चाहिए, क्योंकि वे पीड़ित के आत्मविश्वास को घटाने अर्थात् रोग को बढ़ाने का काम करते हैं।

— *विजय कुमार सिंघल*
चैत्र शु ५, सं २०७५ वि (२२ मार्च २०१८)

मधुमेह के रोगी के लिए क्या खान पान होना चाहिए

[24/03, 21:22] ‪+91 94501 83026‬:
 मधुमेह के रोगी के लिए क्या खान पान होना चाहिए जिससे  शुगर कन्ट्रोल की जा सके
[24/03, 21:23] Vijay Singhal: 
मैंने आपके उपचार में सब बताया है। यहाँ फिर से दे रहा हूँ।
[24/03, 21:25] Vijay Singhal: भोजन*
* नाश्ता प्रातः 8 बजे - अंकुरित अन्न या दलिया या एक पाव मौसमी फल और एक कप गाय का बिना मक्खन का दूध या छाछ। साथ में रात को भिगोये गये 5 मुनक्का चबाचबाकर खायें। 
* दोपहर भोजन 1 से 2 बजे- रोटी, सब्जी, सलाद, दही (दाल चावल कभी-कभी कम मात्रा में)
* दोपहर बाद 4 बजे - किसी मौसमी फल का एक गिलास जूस
* रात्रि भोजन 8 से 8.30 बजे - दही छोड़कर दोपहर जैसा। भूख से थोड़ा कम खायें।
* परहेज- चाय, काफी, कोल्ड ड्रिंक, बिस्कुट, चाकलेट, मिठाई, फास्ट फूड, अंडा, मांस, मछली, शराब, सिगरेट, तम्बाकू बिल्कुल नहीं। 
* फ्रिज का पानी न पियें। मटकी या सुराही का या सादा पानी पियें। 
* मिर्च-मसाले, खटाई तथा नमक कम से कम लें। केवल सेंधा नमक का उपयोग करें। 
* दिन भर में कम से कम साढ़े तीन लीटर सादा पानी पियें अर्थात् हर एक़ या सवा घंटे पर एक गिलास। जितनी बार पानी पीयेंगी उतनी बार पेशाब आयेगा। उसे रोकना नहीं है। पेशाब करते समय बिल्कुल ज़ोर न लगायें। 
* भोजन के बाद पानी न पियें। केवल कुल्ला कर लें। उसके एक घंटे बाद एक गिलास सादा पानी पियें।
* सभी तरह की अधिक गर्म और अधिक ठंडी चीज़ों से दूर रहें।


Friday, March 16, 2018

Benefits of Using of Ghee

Following message received in WhatsApp. Please read assess and verify.  If found correct and good for health you may follow its message.

🚶‍♀🚶‍♂🌹 *Ghee घी*🌹🏃‍♀🏃‍♂

          Why this nectar *Ghee* has been used for thousands of years and how it has benefited humans.
          People avoid Ghee saying that its saturated fat. Yes it is fat but is not “fattening”. Saturated fats are not evil in fact they are needed for your to survive.
          *Ghee contains Omega 3, 6 and 9 fatty acids along with vitamins A, D, E and K2 and 9 Phenolic antioxidants*

          Let us try and specify *the uses and benefits* of this blessing in bullet points so that we could register them easily.

     1. *Ghee* contains Omega 3, 6 and 9 fatty acids along with vitamins A, D, E and K2

     2. Ghee Contains CLA a very important fatty acid with anti-carcinogenic properties

     3. Ghee has a full spectrum of fatty acids , Short , Medium and Long chained

     4. Ghee  has useful anti  viral agents (caprylic acid) and anti fungal agents (lauric acid), prevents plaque

     5. Ghee actually lowers cholesterol (Palmitic and Stearic acid)

     6. Modulator of genetic regulation and prevent cancer (butyric acid)

     7. Ghee is crucial for proper nerve signalling. Ghee has certain saturated fats that function directly as signaling messengers that influence metabolism , including critical jobs as the appropriate release of insulin

    8.  Saturated fat is needed for Calcium to be effectively incorporated into bone.

     9. Improves Liver health due the presence of MCT’s (Medium chain triglycerides)

     10. Believe it or not but your brain is made up of fat and cholesterol and the lions share of the fatty acids in the brain are actually saturated fats

     11. Ghee is regularly used in Ayurveda for treatment of ulcerative colitis, gastric , peptic and duodenal ulcers.

     12. Ghee is the best moisturiser available to mankind. I fail to understand the attraction for chemicals in the name of moisturizing the body

    13. Apply Ghee all over the body massaging it on the head , chest , limbs , joints and orifices. This will bypass the digestive system and allow the qualities of ghee to penetrate directly into the deeper tissues. It is said that 60% of whatever you place on your skin is absorbed in the body.

     14. Have a tablespoon of ghee first thing in the morning for oleation of the internal organ and dissolve  the toxic waste in the tissues allowing them to be carried to the digestive tract for elimination. - And if you follow it with hot water , it will promptly produce a bowel motion.

     15. Best for oil pulling of the mouth which is essential for dental hygiene . Take tablespoon of ghee first thing in the morning and rinse for 10-15 minutes very slowly without swallowing any of it. all the tartar and plaque which brushing and flossing simply cant remove will be pulled by ghee.

     16. In a tablespoon of ghee put two pieces of Kapoor  (Camphor ) and heat it till the Kapoor completely dissolves in the ghee. Apply this mixture to joints and muscles daily either when injured or suffering from arthritis, the relief is absolutely astonishing.  I do this everyday and apply it to my feet in the morning and night before sleeping.

     17. The anti-microbial properties of Ghee makes it the best first aid for cuts , scrapes , bruises and burn wounds.

     18. Ghee contains all the good fatty acids to induce hydration in your skin. Warm up some ghee and apply it with gentle massage on your face. After about 20 minutes wipe off the excess with a warm towel. You will the difference in a weeks time. No cream can ever come close to ghee.

     19. Use it as a lip balm instead of using a chemical balm

     20. Make an equal blend of ghee and coconut oil and apply in your hair. After 30 minutes wash it off with a mild herbal shampoo. If you have dandruff then too will be treated.

     21. Apply it under your eyes and on your eyelids in the night before sleeping. you will notice your dark circles getting lighter and your getting more refreshed.-

          *Choose you Ghee wisely. It is only as good as its source. Should come from organic and non GMO milk.*

          Please make sure to have a good exercise regimen if you want to use ghee for its benefits. If you have a sedentary lifestyle and then consume ghee you will not see benefits and it might actually harm you . So please respect yourself, be active, exercise and use *Ghee.*

Sunday, March 4, 2018

पेट, कमर और वजन घटाने के लिए सरल उपचार क्रम

पेट, कमर और वजन घटाने के लिए सरल उपचार क्रम 
by Sri  Vijay Singhal: 
*उपचार*
* प्रातः काल 6 बजे उठते ही एक गिलास गुनगुने पानी में आधा नीबू का रस और एक चम्मच शहद घोलकर पियें। फिर 5 मिनट बाद शौच जायें।
* शौच के बाद 5 मिनट तक पेडू पर खूब ठंडे पानी से पोंछा लगायें या कटिस्नान लें, फिर टहलने जायें। सामान्य या तेज़ चाल से दो-ढाई किमी टहलें।
* टहलने के बाद कहीं पार्क में या घर पर नीचे दी गयी क्रियाएं करें-
- पवन मुक्तासन 1-2 मिनट
- भुजंगासन 1-2 मिनट
- रीढ़ के व्यायाम : क्वीन और किंग एक्सरसाइज़ (वीडियो से समझकर करें।)
- सूर्य नमस्कार (कम से कम 7 प्रतिदिन) 
- भस्त्रिका प्राणायाम प्रतिदिन 5 चक्र 
- कपालभाति प्राणायाम 300 बार
- अनुलोम विलोम प्राणायाम 5 मिनट 
- अग्निसार क्रिया 3 बार 
- भ्रामरी 3 बार
- उद्गीत (ओंकार ध्वनि) 3 बार 
- तितली व्यायाम एक मिनट 
* व्यायाम के बाद खाली पेट लहसुन की तीन-चार कली छीलकर छोटे-छोटे टुकड़े करके सादा पानी से निगल लें या चबायें। 
* सायंकाल लगभग 6 बजे 5 मिनट तक पेडू पर खूब ठंडे पानी से पोंछा लगायें, फिर टहलने जायें। तेज़ चाल से कम से कम दो किमी टहलें।
* रात्रि 10-10.30 बजे सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण आधा गिलास गुनगुने पानी के साथ लें।

*भोजन*
* नाश्ता प्रातः 8 बजे - अंकुरित अन्न या दलिया या एक पाव मौसमी फल और एक कप गाय का बिना मक्खन का दूध या छाछ।
* दोपहर भोजन 1.30 बजे- रोटी, हरी सब्जी, सलाद, दही (दाल चावल कभी-कभी कम मात्रा में)
* दोपहर बाद 4 बजे - किसी मौसमी फल का एक गिलास जूस या नीबू-पानी-शहद 
* रात्रि भोजन 7.30 बजे - केवल 100 ग्राम फल, 100 ग्राम सलाद और एक प्याली उबली सब्ज़ी। 
* *परहेज-* चाय, काफी, कोल्ड ड्रिंक, बिस्कुट, चाकलेट, आइसक्रीम, मैदा, तली हुई चीज़ें, मिठाई, फास्ट फूड, अंडा, मांस, मछली, शराब, सिगरेट, तम्बाकू बिल्कुल नहीं। 
* फ्रिज का पानी न पियें। सादा या गुनगुना पानी पियें। 
* मिर्च-मसाले, खटाई तथा नमक कम से कम लें। केवल सेंधा नमक का ही उपयोग करें। 
* दिन भर में कम से कम चार लीटर सादा पानी पियें अर्थात् हर एक़ घंटे पर एक गिलास। जितनी बार पानी पीयेंगे उतनी बार पेशाब आयेगा। उसे रोकना नहीं है। पानी पीने के ४५ मिनट या एक घंटे बाद पेशाब करने जायें। पेशाब करते समय बिल्कुल ज़ोर न लगायें। अपने आप निकलने दें। 
* भोजन के बाद पानी न पियें। केवल कुल्ला कर लें। उसके एक घंटे बाद एक गिलास सादा पानी पियें।
* अगर चाय न छोड़ सकें तो उसकी जगह ग्रीन टी लें। पर उसमें चीनी न डालें।
* सभी तरह की ठंडी चीज़ों से बचें। 

*विशेष*
* सभी तरह की दवायें बिल्कुल बंद रहेंगी।
* नहाने के साबुन का प्रयोग बंद कर दें। गीली तौलिया या हाथ से रगड़कर नहायें।
* हर एक माह बाद अपना हाल बतायें।
[
 *पवनमुक्तासन*

(1) पीठ के बल सीधे लेट जाइए। बायाँ घुटना उठाकर दोनों हाथों से बाँध लीजिए। अब साँस खींचकर पेट में हवा भर लीजिए और घुटने से बलपूर्वक पेट को दबाइए। साथ ही सिर को उठाकर नाक को घुटने से लगाने का प्रयास कीजिए। जब साँस अधिक न रोकी जा सके, तो छोड़ दीजिए। (2) यही क्रिया दूसरे पैर से भी कीजिए। (3) यही क्रिया दोनों घुटनों को एक साथ मिलाकर कीजिए।
इस आसन से पेट की गैस निकल जाती है और पाचन शक्ति में सुधार होता है। पेट की चरबी कम होती है और स्मरणशक्ति बढ़ती है। शरीर फूल जैसा हल्का हो जाता है।

: *भुजंगासन*

पेट के बल लेट जाइए। दोनों पैर मिले हुए रहें। हाथों को मोड़कर हथेलियों को कंधों के बराबर में रख लीजिए। अब सिर को उठाइए और हाथों को तानते हुए सिर को अधिक से अधिक पीछे ले जाइए और आकाश की ओर देखने का प्रयास कीजिए। पैरों के पंजे उल्टे होकर जमीन पर टिके रहेंगे। इससे फन उठाये हुए सर्प जैसी आकृति बन जाएगी। इस स्थिति में कुछ देर रुकिए, फिर धीरे-धीरे पूर्वस्थिति में आ जाइए। यह आसन 20 सेकण्ड से प्रारम्भ करके प्रति सप्ताह 20 सेकण्ड बढ़ाते हुए 2 मिनट तक करना चाहिए।

इस आसन से गर्दन, पीठ और पेट का अच्छा व्यायाम होता है और रीढ़ की हड्डी लचीली होती है। मोटापा घटाने में भी सहायता मिलती है और जठराग्नि प्रदीप्त होती है।

*रीढ़ के व्यायाम*

(1) चित लेट जाइये। हाथों को कंधों की सीध में दोनों ओर फैला लीजिए। पैरों को सिकोड़कर घुटने ऊपर उठाकर मिला लीजिए। पंजे जाँघ से सटे रहेंगे। अब दोनों घुटनों को एक साथ बायीं ओर ले जाकर जमीन से लगाइए और सिर को दायीं ओर घुमाकर ठोड़ी को कंधे से लगाइए। एक-दो सेकण्ड इस स्थिति में रुककर घुटनों को घुमाते हुए दायीं ओर जमीन से लगाइए और सिर को घुमाते हुए ठोड़ी को बायें कंधे से लगाइए। इस प्रकार बारी-बारी से दोनों तरफ 20-20 बार कीजिए। यह मर्कटासन की प्रथम स्थिति है। इसे *क्वीन एक्सरसाइज* भी कहा जाता है।

(2) चित लेट जाइये। हाथों को कंधों की सीध में दोनों ओर फैला लीजिए। पैरों को सिकोड़कर घुटने ऊपर उठा लीजिए और पैरों में एक-डेढ़ फीट का अन्तर दीजिए। अब दोनों पैरों को एक साथ बायीं ओर ले जाकर जमीन से लगाइए और सिर को दायीं ओर घुमाकर ठोड़ी को कंधे से लगाइए। इस स्थिति में दायें पैर का घुटना बायें पैर की एड़ी को छूते रहना चाहिए। एक-दो सेकण्ड इस स्थिति में रुककर घुटनों को उठाकर घुमाते हुए दायीं ओर जमीन से लगाइए और सिर को घुमाते हुए ठोड़ी को बायें कंधे से लगाइए। इस स्थिति में बायें पैर का घुटना दायें पैर की एड़ी को छूना चाहिए। इस प्रकार बारी-बारी से दोनों ओर 20-20 बार कीजिए। यह मर्कटासन की द्वितीय स्थिति है। इसे *किंग एक्सरसाइज* भी कहा जाता है।

ये दोनों व्यायाम स्वामी देवमूर्ति जी महाराज द्वारा आविष्कृत हैं। इनको नियमित करने से रीढ़ बहुत लचीली हो जाती है, जिससे रीढ़ की सभी समस्याओं जैसे दर्द, गैप आदि में भारी लाभ होता है। अन्य सभी रोगों से मुक्ति पाने में भी बहुत सहायता मिलती है। इनकी विशेषता यह है कि इन व्यायामों को रोगी व्यक्ति भी अपने बिस्तर पर लेटे-लेटे कर सकता है और पर्याप्त लाभ उठा सकता है।

*भस्त्रिका प्राणायाम*

भस्त्रिका का अर्थ है धोंकनी। इसमें साँस किसी लोहार की धोंकनी की तरह चलती है, इसलिए इसे भस्त्रिका प्राणायाम कहा जाता हैं। सामान्यतया हम जो साँस लेते हैं, उसमें हमारे फेंफड़ों का बहुत कम भाग क्रियाशील रहता है। अधिकांश भाग में से हवा पूरी तरह नहीं निकलती और इसीलिए उनमें ताजी हवा नहीं भरती। इस कारण फेंफड़े अपना कार्य पूरी तरह नहीं कर पाते। फेंफड़ों के निष्क्रिय भागों में रोगों के कीटाणु पलते रहते हैं, जो समय आने पर अपना हानिकारक प्रभाव अवश्य करते हैं। भस्त्रिका प्राणायाम का उद्देश्य है फेंफड़ों को पूरी तरह खाली करना और पूरी तरह भरना। इसके लिए लगातार गहरी साँस ली और छोड़ी जाती है।

उचित आसन में बैठकर पहले साँस पूरी तरह निकाल दीजिए। साँस छोड़ते हुए पेट पिचकना चाहिए। अब गहरी साँस बलपूर्वक खींचिए, इतनी कि फेंफड़ों में अच्छी तरह हवा भर जाये। अब बिना रोके तत्काल ही साँस बलपूर्वक पूरी तरह निकाल दीजिए। इस प्रकार तीन बार साँस छोड़ने और भरने से एक चक्र पूरा होता है। प्रत्येक चक्र के बाद दो-तीन साँसें साधारण तरीके से लेकर विश्राम कर लेना चाहिए। प्रारम्भ में ऐसे केवल तीन चक्र कीजिए। इसके बाद प्रत्येक सप्ताह एक चक्र बढ़ाते हुए अपनी शक्ति के अनुसार 7 से 11 चक्रों तक पहुँचना चाहिए। इसके बाद उतने ही चक्र रोज करते रहना चाहिए।
इस प्राणायाम से बहुत लाभ होता है। सबसे बड़ा लाभ यह है कि खून बहुत जल्दी शुद्ध होता है और सभी ज्ञानेन्द्रियाँ और कर्मेन्द्रियाँ यदि निष्क्रिय या कमजोर हों तो अति सबल और सक्रिय हो जाती हैं। इस प्राणायाम का लाभ लगभग 1 माह बाद दृष्टिगोचर होता है। इसलिए धैर्यपूर्वक करते रहना चाहिए। इसमें मनमानी नहीं करनी चाहिए।

*कपालभाति*

इसमें मुख्य जोर केवल साँस छोड़ने पर दिया जाता है, खींचने पर नहीं। इसमें साँस को छोटे-छोटे झटके देकर निकाला जाता है। किसी सुविधाजनक आसन में सीधे बैठकर साँस को झटके दे-देकर निकालिए। साँस खींचने का बिल्कुल प्रयास मत कीजिए। झटकों की गति प्रारम्भ में एक सेकंड में एक रखी जा सकती है, जो धीरे-धीरे बढ़ाकर एक सेकण्ड में दो की जा सकती है।

दो झटकों के बीच में जो समय होता है, उतने में साँस अपने आप अन्दर जाती है, परन्तु उसे खींचने का प्रयास बिल्कुल नहीं करना चाहिए। यह ध्यान रहे कि साँस छोड़ते समय पेट पिचककर झटके के साथ ही पीठ की ओर जाना चाहिए। यह क्रिया करते समय शरीर को ज्यादा हिलाना नहीं चाहिए और मुख की मुद्रा भी नहीं बिगड़नी चाहिए। यह क्रिया अपनी सुविधा और सामर्थ्य के अनुसार 5 मिनट से 15 मिनट तक सरलता से की जा सकती है।

कपालभाति से भी वे सभी लाभ प्राप्त होते हैं, जो भस्त्रिका से होते हैं। इससे बुद्धि तीक्ष्ण होती है और गले से ऊपर के सभी अंगों, गुर्दा और पेट के रोगों में भी भारी लाभ होता है।

 *अनुलोम-विलोम प्राणायाम*

अपनी सुविधानुसार सिद्धासन, सुखासन या वज्रासन में बैठ जाइए। धड़ और सिर सीधे रखिए। दायें हाथ की तर्जनी उँगली को मोड़कर हथेली से चिपका लीजिए। इसके एक ओर अँगूठा रहेगा और दूसरी ओर शेष तीन उँगलियाँ होंगी। अँगूठे से दायें नथुने को हल्के से दबाया जाता है और उँगलियों से बायें नथुने को। हाथ कोहनी तक धड़ से सटा रहेगा, ताकि उठे रहने के कारण उसमें दर्द न हो। दूसरा हाथ बायें पैर पर ज्ञान मुद्रा में (तर्जनी और अँगूठे की पोरें मिली हुईं, शेष उँगलियाँ सीधी) रखा रहेगा।

अब दायाँ नथुना बन्द करके बायें नथुने से धीरे-धीरे साँस भरिये। पूरी साँस भर जाने पर तुरन्त ही बायाँ नथुना बन्द करके दायें नथुने से धीेरे-धीरे साँस निकालिए। फिर दायें नथुने से साँस भरिये और बायें से निकालिए। यह एक चक्र हुआ। प्रतिदिन इसी तरह आवश्यक संख्या में कई चक्र किये जाते हैं।

इसमें साँस खींचना और छोड़ना लयपूर्वक होना चाहिए। साँस छोड़ने में खींचने से अधिक समय लगना चाहिए। समय को कंट्रोल करने की सरल विधि यह है कि आप साँस खींचने और छोड़ने के लिए गिनती तय कर लें और मन ही मन में गिनती बोलते जायें। उदाहरण के लिए, आप 5 से 6 तक की गिनती में साँस भर सकते हैं और 8 से 10 तक की गिनती में साँस छोड़ सकते हैं। बाद में अभ्यास हो जाने पर गिनती बढ़ाई भी जा सकती है। प्रारम्भ में तीन चक्रों से अभ्यास शुरू करना चाहिए और फिर प्रत्येक सप्ताह एक चक्र बढ़ाते हुए अपनी सुविधानुसार 21 चक्रों तक पहुँचना चाहिए।

यह प्राणायाम सभी प्राणायामों का मूल है। इसका अभ्यास करने से श्वास-प्रश्वास की गति नियमित होती है और रक्त का शोधन होता है, जिससे सभी रोगों में लाभ होता है और दीर्घायु प्राप्त होती है। सबसे बड़ी बात यह है कि इससे किसी हानि की कोई संभावना नहीं है। इसमें अधिकतम समय की भी कोई सीमा नहीं है।

*अग्निसार क्रिया*

वज्रासन या सुखासन में बैठकर अथवा खड़े होकर पहले श्वास को मुँह से या नाक से पूरी तरह बाहर निकालकर बाहर ही रोक दीजिए। फिर जब तक श्वास बाहर रोक सकें तब तक पेट को अन्दर-बाहर कीजिए। ऐसा 25 से 30 बार तक कर सकते हैं। कंधों को नहीं हिलाना चाहिए। ऐसा करके श्वास को फिर से भर लीजिए। यह क्रिया 3 या 4 बार करना पर्याप्त है।

इस क्रिया से पाचन शक्ति बढ़ जाती है और कब्ज, डकारें, गैस आदि पेट सम्बंधी तमाम बीमारियाँ और शिकायतें दूर हो जाती हैं। भूख बढ़ जाती है। इससे मोटापा कम होता है तथा मधुमेह और बहुमूत्र रोग भी ठीक हो जाता है। इस क्रिया से नौली क्रिया का अधिकांश लाभ प्राप्त हो जाता है।

*भ्रामरी प्राणायाम*

इस प्राणायाम में भ्रमर (भौंरे) की तरह गुंजन किया जाता है। इसलिए इसका नाम भ्रामरी है। इसे करने के लिए किसी ध्यानात्मक आसन में बैठकर अँगूठों से दोनों कानों को बन्द किया जाता है, तर्जनी उँगलियों को भाल पर रखा जाता है और दो-दो उँगलियों से आँखों को बन्द करके दोनों ओर से थोड़ा दबाया जाता है। फिर गहरी साँस भरकर होंठ बन्द करके देर तक ऊँ-ऊँ की ध्वनि गुँजाई जाती है। इस प्रकार कम से कम 3 बार करना चाहिए। अधिक से अधिक कितनी भी बार किया जा सकता है।

इस प्राणायाम को करने से मस्तिष्क को बहुत बल मिलता है। मन की चंचलता, तनाव, उत्तेजना और बेचैनी दूर होती है। रक्तचाप और हृदय रोगों में बहुत लाभप्रद है। इसका अच्छा अभ्यास हो जाने पर ध्यान लगना प्रारम्भ हो जाता है।

*उद्गीत (ओंकार ध्वनि)*

सभी प्राणायामों को करने के बाद उद्गीत अर्थात् ओंकार ध्वनि करनी चाहिए। इसके लिए सीधे बैठकर दोनों हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रख लें। अब गहरी साँस भरकर ‘ओऽऽऽ’ का उच्चारण करें। आधी साँस निकल जाने पर ‘म्....’ का उच्चारण पूरी साँस निकलने तक करें। ऐसा कम से कम 3 बार करना चाहिए। इससे अधिक जितना करना चाहें कर सकते हैं।

उद्गीत के अभ्यास से मन एकाग्र होने लगता है। शरीर में ऊँ ध्वनि गूँजने से सभी नस-नाड़ियों और हृदय को भी बल मिलता है।

*तितली व्यायाम*

यह व्यायाम सभी आसनों या व्यायामों को कर लेने के बाद अन्त में किया जाता है। जैसा कि इसके नाम से स्पष्ट है इसमें घुटनों को तितली के पंखों की तरह हिलाया जाता है। इसके लिए सीधे बैठ जाइए और दोनों पैरों के तलुवों को एक साथ मिलाकर पंजों को दोनों हाथों की उँगलियाँ फँसाकर कसकर पकड़ लीजिए। अब दोनों घुटनों को तितली के पंखों की तरह चलाइए। ऐसा कम से कम आधा मिनट और अधिक से अधिक एक मिनट तक कीजिए। इस व्यायाम को करने से पैरों में खून का दौरा तेज होता है। कूल्हों और नितम्बों की चर्बी घटती है।

 *कटिस्नान की सरल विधि*

1. एक बाल्टी में खूब ठंडा पानी भर लीजिए। आवश्यक होने पर बर्फ़ मिला लीजिए।
2. अब बाथरूम में जांघिया उतारकर दीवाल के सहारे बैठ जाइए, घुटने उठा लीजिए और बाल्टी को घुटनों के बीच में रख लीजिए। 
3. अब एक मग या लोटे से पानी भर भरकर पेडू (पेट का नाभि से नीचे का आधा भाग) पर दायें से बायें और बायें से दायें धार बनाकर डालिए। 
4. इस तरह पूरी बाल्टी खाली कर दीजिये। 
5. अंत में पेडू को पोंछकर उठ जाइये और कपड़े पहन लीजिए।

Compiled and presented by Sri Vijay Singhal

*पीठ का दर्द : कारण और निवारण*

पीठ का दर्द हद से ज़्यादा परेशान करने वाला दर्द है। एक अध्ययन के अनुसार ८०% लोग अपने जीवन में कभी न कभी इस दर्द से पीड़ित रहते हैं। विशेष रूप से अधेड़ावस्था के व्यक्तियों को यह दर्द बहुत परेशान करता है।

यह दर्द रीढ़ की हड्डी में जकड़न आ जाने के कारण होता है। इस जकड़न के कई कारण हो सकते हैं, जैसे- बैठने और सोने का गलत तरीक़ा, व्यायाम की कमी, बढ़ता हुआ वजन, खाँसी और दमा जैसा कोई असाध्य रोग, खून की कमी आदि। इसके अलावा कभी कभी गलत ऑपरेशन करने से भी यह शिकायत हो जाती है।

आप जानते हैं कि रीढ़ हमारे शरीर का आधार है अर्थात् सारा शरीर इसी पर टिका हुआ है। यह हमारे गुदा मूल से प्रारम्भ होकर ग्रीवा मूल तक जाती है। यह कोई हड्डी नहीं है बल्कि अनेक छोटी-छोटी हड्डियों का व्यवस्थित समूह है, जो किसी माला की तरह आपस में गुँथी होती हैं। इनके बीच का भाग छेददार होता है, जिससे ये सब मिलकर एक नली सी बनाती हैं।

रीढ़ की इस नली में होकर हज़ारों नाड़ियाँ जाती हैं, जिनमें इड़ा, पिंगला और सुषुम्ना मुख्य हैं। जब रीढ़ में कोई जकड़न होती है या उसकी दो छोटी हड्डियों के बीच गैप हो जाता है या अन्य किसी कारण से ये नसें दब जाती हैं, तो पीठ में दर्द होने लगता है। इस दर्द के कारण पीड़ित व्यक्ति न तो ठीक से बैठ पाता है, न चल पाता है और न आगे-पीछे या गायें बायें झुक पाता है।

ऐलोपैथी सहित अन्य चिकित्सा पद्धतियों में इस दर्द का कोई स्थायी समाधान नहीं है। वे केवल एक मोटा का पट्टा कमर और पीठ पर बाँध देते हैं, जिससे रीढ़ को थोड़ा सहारा मिल जाता है। यह पट्टा उनको हमेशा बाँधे रहना पड़ता है। कोई तेल या मालिश या सिकाई इस रोग में काम नहीं करती।

इसका इलाज है ऐसे व्यायाम करना जिनसे रीढ़ की हड्डी दायें-बायें उचित रूप में घूमती हो। ऐसे दो व्यायाम हैं- कटिचक्रासन और मर्कटासन का व्यायामात्मक रूप। यहाँ मैं इन दोनों की विधि बता रहा हूँ।

*कटिचक्रासन*

पैरों में एक-डेढ़ फीट का अन्तर देकर सीधे खड़े हो जाइए और हाथों को कंधों की सीध में तान लीजिए। अब पैरों को जमाए रखकर बायीं ओर धीरे-धीरे अधिक से अधिक घूमिये, इतना कि पीठ से पीछे का सारा दृश्य दिखाई देने लगे। इस स्थिति में कुछ सेकण्ड रुकिए और फिर घूमते हुए पूर्व स्थिति में आ जाइए। अब इसी तरह दायीं ओर घूमिए। यह क्रिया दोनों ओर बारी-बारी से 10-10 बार कीजिए। इस क्रिया को कटिचक्रासन कहते हैं। इसमें रीढ़ पूरे 360 अंश घूम जाती है।

*मर्कटासन के व्यायाम*

(1) चित लेट जाइये। हाथों को कंधों की सीध में दोनों ओर फैला लीजिए। पैरों को सिकोड़कर घुटने ऊपर उठाकर मिला लीजिए। पंजे जाँघ से सटे रहेंगे। अब दोनों घुटनों को एक साथ बायीं ओर ले जाकर जमीन से लगाइए और सिर को दायीं ओर घुमाकर ठोड़ी को कंधे से लगाइए। एक-दो सेकण्ड इस स्थिति में रुककर घुटनों को घुमाते हुए दायीं ओर जमीन से लगाइए और सिर को घुमाते हुए ठोड़ी को बायें कंधे से लगाइए। इस प्रकार बारी-बारी से दोनों तरफ 20-20 बार कीजिए। यह मर्कटासन की प्रथम स्थिति है। इसे *क्वीन एक्सरसाइज* भी कहा जाता है।

(2) चित लेट जाइये। हाथों को कंधों की सीध में दोनों ओर फैला लीजिए। पैरों को सिकोड़कर घुटने ऊपर उठा लीजिए और पैरों में एक-डेढ़ फीट का अन्तर दीजिए। अब दोनों पैरों को एक साथ बायीं ओर ले जाकर जमीन से लगाइए और सिर को दायीं ओर घुमाकर ठोड़ी को कंधे से लगाइए। इस स्थिति में दायें पैर का घुटना बायें पैर की एड़ी को छूते रहना चाहिए। एक-दो सेकण्ड इस स्थिति में रुककर घुटनों को उठाकर घुमाते हुए दायीं ओर जमीन से लगाइए और सिर को घुमाते हुए ठोड़ी को बायें कंधे से लगाइए। इस स्थिति में बायें पैर का घुटना दायें पैर की एड़ी को छूना चाहिए। इस प्रकार बारी-बारी से दोनों ओर 20-20 बार कीजिए। यह मर्कटासन की द्वितीय स्थिति है। इसे *किंग एक्सरसाइज* भी कहा जाता है।

ये व्यायाम अपने अन्य व्यायामों के साथ नित्य करने चाहिए। इनको नियमित करने से रीढ़ बहुत लचीली हो जाती है, जिससे रीढ़ की सभी समस्याओं जैसे पीठ दर्द, गैप आदि में भारी लाभ होता है। अन्य सभी रोगों से मुक्ति पाने में भी बहुत सहायता मिलती है।

मर्कटासन के दोनों व्यायामों का वीडियो भी उपलब्ध है, जिसे यहाँ दे रहा हूँ।

अधिक कष्ट होने पर ये व्यायाम सुबह और शाम दोनों समय करने चाहिए। यदि रीढ़ में किसी विशेष स्थान पर दर्द हो तो वहाँ गर्म ठंडी सिकाई भी की जा सकती है। इससे आराम मिलता है और स्थायी लाभ होने में सहायता मिलती है।

— *विजय कुमार सिंघल*
चैत्र कृ ४, सं २०७४ वि (५ मार्च २०१८)

My Amazon